GLIBS

6 जुलाई को बना था कबीरधाम जिला, ऐतिहासिक और पुरातात्विक के कारण प्रदेश में अलग पहचान

दीपक ठाकुर  | 06 Jul , 2021 04:23 PM
6 जुलाई को बना था कबीरधाम जिला, ऐतिहासिक और पुरातात्विक के कारण प्रदेश में अलग पहचान

कवर्धा। कबीरधाम जिले का मंगलवार को स्थापना दिवस है। 6 जुलाई 1998 में जिला की स्थापना हुई थी। जिले में चार ब्लाक, 1 नगर पालिका व 5 नगर पंचायत है। कबीर साहिब के आगमन और उनके शिष्य धर्मदास के वंशजों की पद की स्थापना के कारण इसे कबीरधाम नाम दिया गया था। जिला मुख्यालय से लगभग 17 किमी दूर भोरमदेव ऐतिहासिक और पुरातात्विक रूप से एक बहुत ही समहत्वपूर्ण जगह है। यह स्थान 9वीं शताब्दी से 14वीं शताब्दी तक नागवंशी राजाओं की राजधानी थी। इसके बाद इस क्षेत्र में राज्य रतनपुर से संबंधित हैवाईवंशी राजाओं के कब्जे में आए। इन राजाओं की ओर से निर्मित मंदिर और पुराने किले के पुरातात्विक अवशेष अभी भी उपलब्ध हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.