GLIBS

न्यायाधीश राजेश्वरी सूर्यवंशी ने कहानी के जरिए लोगों को किया जागरूक

न्यायाधीश राजेश्वरी सूर्यवंशी ने कहानी के जरिए लोगों को किया जागरूक

पिथौरा। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विधिक सेवा दिवस मनाया गया। साथ ही घर-घर संपर्क कर विधिक सेवा से संबंधित पाम्पलेट बांटे गए जिसमें विधिक सेवा से संबंधित योजनाओं का विस्तार से उल्लेख किया गया है। साथ ही घर-घर संपर्क कर ऐसे व्यक्तियों की पहचान भी की जा रही है जो आर्थिक एवं शैक्षणिक रूप से कमजोर हो और जिन्हें विधिक सेवा की आवश्यकता हो। जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुषमा सावंत के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण महासमुन्द के सचिव न्यायाधीश राजेश्वरी सूर्यवंशी के नेतृत्व में  9 नवंबर को ग्राम पंचायत भिथिडीह के कमारडेरा में विधिक सेवा दिवस मनाया गया।

इस अवसर पर राजेश्वरी सूर्यवंशी ने ग्रामीणों को बताया कि प्राधिकरण की तरफ  से समय-समय पर समाज के जरूरतमंद लोगों को सक्षम बनाने के लिए, पर्यावरण, यातायात, महिलाओं की सुरक्षा व बुजुर्गों व दिव्यांगों को पेंशन योजना का लाभ मिल सके, इसलिए विशेष जागरुकता अभियान चलाया जाता है।

प्राधिकरण की तरफ  से सभी तालुका विधिक सेवा केंद्र में, पुलिस थाना एवं संरक्षण गृह में अधिवक्ता एवं पैरा लीगल वालंटियर्स की नियुक्ति की गई है। कार्यक्रम में राजेश्वरी सूर्यवंशी ने ग्रामीणों को बहुत ही सरल तरीके से  कानून के प्रति जागरूक करने के लिए एक कहानी सुनाई जिसे सुनकर सभी ग्रामीण गदगद हो गए। पैरा लीगल वालंटियर्स रूपानंद सोई और मोहन साहू ने बताया कि विधिक अधिकारों और विधिक योजनाओं के बारे में ग्रामीणों को अवगत कराने डोर टू डोर कैंपेन भी 9 से 18 नवंबर तक चलाया जाएगा।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.