GLIBS

नशे और आर्थिक तंगी के कारण बढ़ रही घरेलू हिंसा : डॉ. अविनाश शुक्ला

राहुल चौबे  | 10 May , 2020 01:48 PM
नशे और आर्थिक तंगी के कारण बढ़ रही घरेलू हिंसा : डॉ. अविनाश शुक्ला

रायपुर। घरेलू हिंसा बढऩे को लेकर स्पर्श क्लीनिक के मनोरोग चिकित्सक डॉ. अविनाश शुक्ला का कहना है इनमें नशे की पूर्ति नहीं होने से चिड़चिड़ापन और आर्थिक तंगी को प्रमुख माना जा रहा है। साथ ही लॉक डाउन के कारण लोग इन दिनों लोग सामान्य से ज्यादा तनाव में हैं। व्यापारी, श्रमिक या कोई भी हो लॉक डाउन में काम बंद होने से आर्थिक बोझ व कोरोना वायरस को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य की चिंता के बीच सोशल डिसटेंसिंग में पुरुष वर्ग द्वारा घरों से बाहर नहीं निकलने से तनाव महसूस कर रहे हैं। घरों में 24 घंटे रहने से वक्त तो ज्यादा मिल रहा है परिवार के लिए लेकिन पति-पत्नी के बीच रिलेशनशीप में सौहाद्र नहीं है। छुटियों के बीच दूसरे शहर घूमने जाने का प्लान और बच्चों का स्कू‍ल नहीं होने से दिनभर घर में माहौल उबाऊ होने लगा है।

इस वजह से भी पति-पत्नी के बीच विवाद और झगड़े की स्थिति बन रही है। मनोरोग चिकित्सक डॉ. शुक्ला ने बताया कोरोना वायरस की वजह से जारी लॉक डाउन की स्थिति ने सभी की दिनचर्चा को बदलकर रख दिया है। ऐसे में घरों में बढ़ते आपसी तनाव यानी घरेलू हिंसा को खत्म करने के लिए पति–पत्नी के बीच बातचीत के तौर तरीकों में कुछ नयापन का एहसास होना चाहिए। एक दूसरे के भावनाओं का आदर करना चाहिए। किसी बात पर ठेस लगने जैसे कठोर भाषा का प्रयोग करने से बचना चाहिए। जो पत्नी को पसंद नहीं ऐसा कार्य बार-बार नहीं करना चाहिए। पत्नी् को बच्चों के सामने नहीं डांटना चाहिए बल्कि उनकी प्रशंसा करना चाहिए। जरुरत पड़े तो आपसी मतभेद को खत्म करने के लिए मैरीज काउंसलर से भी परामर्श लेना चाहिए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.