GLIBS

हाथियों का झुंड भानुप्रतापपुर और बालोद के सीमा क्षेत्र से फिर लौटा चारामा क्षेत्र में, लोगों में दहशत

नरेश भीमगज  | 22 Nov , 2020 08:43 PM
हाथियों का झुंड भानुप्रतापपुर और बालोद के सीमा क्षेत्र से फिर लौटा चारामा क्षेत्र में, लोगों में दहशत

कांकेर। जिले के कुछ क्षेत्रों में पिछले दो माह से हाथियों के एक झुंड ने आतंक मचा रखा है,जिससे आस-पास के लोगों में दहशत बना हुआ है। आतंक का पर्याय बन हाथियों के झुंड ने एक बार फिर चारामा क्षेत्र में जमकर उत्पात मचाया है। हाथियों का झुंड भानुप्रतापपुर और बालोद के सीमा क्षेत्र से लौटकर फिर से चारामा वन परिक्षेत्र में पहुंच गया है। हाथियों के दल ने कूर्रुटोल गांव में एक मकान को क्षतिग्रस्त कर दिया है वहीं घर के बाहर रखे सामानों को भी कुचल कर तहसनहस कर दिया है। घर में मौजूद रहे लोगों ने किसी तरह घर से भागकर अपनी जान बचाई। ज्ञात होकि चन्दा हाथी का दल पिछले 2 माह से जिले के कुछ क्षेत्रों में आतंक मचाया हुआ है। हाथियों का यह दल 16 सितम्बर को नरहरपुर वन परिक्षेत्र से जिले में घुसा था, जहां करीब 15 एकड़ की फसल हाथियों ने रौंद कर बर्बाद कर दिया।

चारामा, भानुप्रतापपुर और बालोद जिले के कुछ गांव में भी इसी हाथी के दल ने जमकर उत्पात मचाया था। अब हाथियों का यह दल उसी रास्ते वापस लौट रहा है,जिससे क्षेत्र के ग्रामीणों में दहशत बनी हुई है। वही वन विभाग हाथियों के हलचल पर नज़र बनाये हुए है और ग्रामीणों से अलर्ट रहने की अपील की है। कूर्रुटोला गांव के एक किसान परिवार के घर को तहस नहस कर दिया साथ ही घर के बाहर खड़े बैलगाड़ी को भी तोड़ डाला है। हाथियों के बढ़ते आतंक से जहां ग्रामीणों में भारी दहशत है। वही पूरे मामले में वन विभाग के उदासीन रवैये से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.