GLIBS

राज्य में तत्काल मेडिकल इमरजेंसी लागू करने के साथ टोटल लॉक डाउन करें सरकार : अमित जोगी

रविशंकर शर्मा  | 16 Sep , 2020 09:30 PM
राज्य में तत्काल मेडिकल इमरजेंसी लागू करने के साथ टोटल लॉक डाउन करें सरकार : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि कोरोना कैपिटल रायपुर में कोवडी-9 की R_O मतलब बेसिक रिप्रोडक्टिव रेट मात्र 7 दिनों में 0.7 से 7 पार कर चुकी है, जो अपने आप में वर्ल्ड रिकार्ड है। R ये बताता है कि संक्रमण कितनी गति से फैल रहा है। R=7 का मतलब एक संक्रमित व्यक्ति 7 लोगों को संक्रमित कर रहा है, जबकि कोरोना महामारी के चरम में भी इटली के लोमबारडी और अमरीका के न्यूयॉर्क में R=5.6 से ज्यादा नहीं बढ़ा था। ऐसे में छत्तीसगढ़ में अगले 30 दिनों में 1-2 लाख लोग गंभीर रूप से संक्रमित होने की संभावना हैं, जबकि प्रदेश में उपचार क्षमता इसकी 5 प्रतिशत भी नहीं है। यह राज्य की कांग्रेस सरकार के 13 कोरोना वॉरिअर्स और  केंद्र की भाजपा सरकार दोनों की विफलता का अब तक का सबसे बड़ा प्रमाण है।

अमित जोगी ने कहा है कि राजनीति अपनी जगह है लेकिन छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में महामारी को रोकने के लिए मेडिकल इमरजेंसी (चिकित्सा आपातकाल)  लागू करने के साथ टोटल लॉक डाउन करने के अलावा अब भूपेश सरकार के पास कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा है। अमित जोगी ने कहा है कि लॉक डाउन के दौरान सभी राशनकार्ड धारियों को प्रतिमाह 6000 रुपए भी प्रदान किया जाए ताकि विपरीत परिस्थितियों मे लोगों को थोड़ी सी राहत मिलें। अमित जोगी ने छत्तीसगढ़ में टोटल लॉक डाउन साथ ही कोरोना मेडिकल इमरजेंसी पर तत्काल यह निर्णय लेने का भी मांग सरकार से की है। अमित ने मांग की है कि सभी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का फ्री में इलाज। रोकथाम के लिए 100000  निशुल्क टेस्ट प्रतिदिन। मृतक के परिवार वालों को 10 लाख रुपए का मुआवजा। लॉक-डाउन के दौरान सभी राशनकार्ड धारियों को 6000  प्रतिमाह दिया जाए।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.