GLIBS

युवा देश के भविष्य, उनके हाथों में देश की उन्नति की बागडोर : राज्यपाल

ग्लिब्स टीम  | 20 Jan , 2020 04:44 PM
युवा देश के भविष्य, उनके हाथों में देश की उन्नति की बागडोर : राज्यपाल

रायपुर। युवा देश के भविष्य होते हैं। उन्हीं के हाथों में देश की उन्नति की बागडोर होती है। किसी भी देश की प्रगति का जिम्मा वहां के युवाओं पर होता है। युवाओं की सोच नई होती है। उनमें इतना उत्साह होता है, जो किसी कार्य को परिणाम तक पहुंचा सकते हैं। यह बात राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कही। राज्यपाल सोमवार को भोपाल में नेहरू युवा केन्द्र द्वारा आयोजित युवा सम्मेलन एवं सम्मान समारोह को संबोधित कर रही थी। राज्यपाल उइके ने कहा कि जीवन में सफलता-असफलता लगी रहती है। यदि असफलता मिले तो किसी भी हाल में हताश व निराश न हों। सकारात्मक सोच के साथ निरंतर कार्य में लगे रहें, सफलता अवश्य मिलेगी। पद कोई भी प्राप्त कर लेता है परन्तु उसी के अनुरूप भावनाओं और आत्मीयता से कार्य करना बड़ी बात है।

उन्होंने कहा कि पंडित नेहरू हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री थे, उन्होंने देश के विकास के लिए अतुलनीय योगदान दिया। राज्यपाल ने कहा कि नेहरू युवा केन्द्र के माध्यम से जो कार्य समाज में जागरूकता फैलाने का कार्य किया जा रहा है, वह सराहनीय है।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सोच है कि अच्छे काम करने वालों को आगे आना चाहिए। ऐसे ही रास्तों पर चलकर युवा देश का नेतृत्व करेंगे और देश को आगे ले जाएंगे। उइके ने कहा कि आज समय की मांग है कि प्रतिस्पर्धा के इस युग में युवा अपने कार्यों में श्रेष्ठता लाएं और संघर्ष कर, विजयी होना सीखें। साथ ही ऐसा कार्य करें कि आने वाले पीढ़ी के लिए मागदर्शक बने। आज अनेक बुराईयां देश को खोखला कर रही है। इन परिस्थितियों में देश की युवा शक्ति को जागृत होना होगा और अपने सकारात्मक सोच के साथ अपने ऊर्जा को अच्छे कार्यों में लगाएं। कार्यक्रम में विधायक कृष्णा गौर ने भी संबोधन दिया।
इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम करने वाले प्रबुद्धजनों को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मनीष शंकर शर्मा, नेहरू युवा केन्द्र मध्यप्रदेश के निदेशक दिनेश राय, नेहरू युवा केन्द्र के जिला युवा समन्वय डॉ. सुरेन्द्र शुक्ला सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.