GLIBS

वित्तीय वर्ष 2020-21 में आपदा प्रभावितों को 143 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता, देखिए जिलेवार आंकड़े 

रविशंकर शर्मा  | 18 Mar , 2021 03:50 PM
वित्तीय वर्ष 2020-21 में आपदा प्रभावितों को 143 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता, देखिए जिलेवार आंकड़े 

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के प्राकृतिक आपदा प्रकरणों में आर्थिक सहायता राशि जारी की है। पीड़ितों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए वित्तीय वर्ष 2020-21 में 142 करोड़ 97 लाख 77 हजार रुपए की राशि जारी की गई। रायपुर जिले के लिए 5 करोड़ 1 लाख 26 हजार रुपए, महासमुंद के लिए 3 करोड़ 99 लाख 15 हजार रुपए, धमतरी के लिए 3 करोड़ 99 लाख 94 हजार रुपए, बलौदाबाजार 5 करोड़ 31 लाख 40 हजार रुपए और गरियाबंद जिले के लिए 3 करोड़ 43 लाख 60 हजार रुपए की राशि जारी की गई। 

इसी प्रकार से दुर्ग जिले के लिए 3 करोड़ 19 लाख 15 हजार रुपए, राजनांदगांव के लिए 4 करोड़ 88 लाख 95 हजार रुपए, कबीरधाम के लिए 3 करोड़ 39 लाख 19 हजार रुपए, बालोद के लिए 4 करोड़ 86 लाख 40 हजार रुपए और बेमेतरा के लिए 3 करोड़ 46 लाख 70 हजार रूपए की राशि जारी गई। बिलासपुर जिले में 4 करोड़ 91 लाख 11 हजार रुपए, मुंगेली जिले में 4 करोड़ 32 लाख रुपए, जांजगीर-चांपा में 17 करोड़ 11 लाख 27 हजार रुपए, कोरबा में 3 करोड़ 27 लाख 40 हजार रुपए, रायगढ़ में 13 करोड़ 19 लाख 15 हजार रुपए व गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले में 3 करोड़ 2 लाख 40 हजार रुपए की राशि जारी की गई।

बस्तर जिले के लिए 9 करोड़ 52 लाख 20 हजार रुपए, दंतेवाड़ा के लिए 6 करोड़ 99 लाख 90 हजार रुपए, बीजापुर के लिए 5 करोड़ 8 लाख 84 हजार रुपए, सुकमा के लिए 4 करोड़ 28 लाख 40 हजार रुपए, कोंडागांव के लिए 4 करोड़ 10 लाख 40 हजार रुपए, कांकेर जिले के लिए 4 करोड़ 15 लाख 20 हजार रुपए व नारायणपुर जिले में 2 करोड़ 84 लाख 96 हजार रुपए की राशि वर्ष 2020-21 के लिए जारी की गई। इसी तरह से सरगुजा जिले के लिए 4 करोड़ 2 लाख 20 हजार रुपए आपदा पीड़ितों को सहायता के लिए जारी किए गए हैं। सूरजपुर जिले में 3 करोड़ 94 लाख 80 हजार रुपए, बलरामपुर में 3 करोड़ 94 लाख 80 हजार रुपए, जशपुर में 3 करोड़ 99 लाख 60 हजार रुपए व कोरिया जिले में 3 करोड़ 27 लाख 40 हजार रुपए की राशि वित्तीय वर्ष 2020-21 में जारी की गई।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.