GLIBS

राजिम माघी पुन्नी मेला का शुभारंभ डॉ.चरणदास महंत ने किया, कहा-पृथक से बनेगा धर्मस्व संचालनालय

फारूक मेमन  | 27 Feb , 2021 09:53 PM
राजिम माघी पुन्नी मेला का शुभारंभ डॉ.चरणदास महंत ने किया, कहा-पृथक से बनेगा धर्मस्व संचालनालय

गरियाबंद। छत्तीसगढ़ के प्रयागराज के  नाम से सुशोभित 15 दिनों तक चलने वाले राजिम माघी पुन्नी मेला का विधिवत शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने भगवान राजीवलोचन की प्रतिमा में दीप प्रज्वलित और पूजा अर्चना कर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राजिम माघी पुन्नी मेला छत्तीसगढ़ की संस्कृति सद्भाव और प्रेम का प्रतीक है इस अवसर पर धर्मस्व एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू,विधायक धनेंद्र साहू,राजिम विधायक अमितेश शुक्ल और स्थानीय साधु संत जनप्रतिनिधि तथा श्रद्धालु मौजूद थे। इस अवसर पर डॉ.महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति में मिठास प्रेम और सद्भावना राज्य की प्रतीक है। उन्होंने राजिम मेला को पुरातन संस्कृति और पुन्नी मेला के रूप में स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और धर्मस्व मंत्री का बधाई दिया। डॉ.महंत ने कहा कि राज्य में आपसी प्रेम और सद्भाव है से नवा छत्तीसगढ़ गढ़बो। उन्होंने कहा कि आज हमें आपसी भेदभाव और घृणा की आवश्यकता नहीं है। राजिम माघी पुन्नी मेला हमें आपसी प्यार और सद्भाव का संदेश देती है। धर्मस्व एवं जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि मेला का स्वरूप पहले बदल गया था,जिसे पुनः स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आते ही पहला विधेयक राजिम माघी पुन्नी मेला का लाया था और गजेटियर के अनुसार इसे पुन्नी मेला का नाम दिया गया।

उन्होंने कहा की अब राज्य में पृथक से धार्मिक न्यास का संचालनालय बनेगा इसमें संभाग स्तर पर उपसंचालक पद की नियुक्ति जाएगी। राजिम मेला के लिए 54 एकड़ स्थाई जमीन चयन के लिए स्थानीय प्रशासन को बधाई दी। कोरोना महामारी को लेकर  उन्होंने कहा कि हमें आगामी तीन चार माह तक फिर से सतर्क रहना पड़ेगा। मास्क लगाने और साबुन से हाथ धोने व सेनीटाइजर क उपयोग करने का आग्रह किया। अभनपुर विधायक धनेंद्र साहू ने कहा राजिम माघी पुन्नी मेला संस्कृति की पुनः स्थापित करने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आभार प्रकट किया है। राजिम विधायक अमितेश शुक्ला ने कहा कि राजिम सदियों से पवित्र भूमि है। यहां आस-पास की सांस्कृतिक धरोहर विद्यमान है। इस अवसर पर ब्रह्मकुमारी प्रजापति परिवार के साथ जिला पंचायत के अध्यक्ष स्मृति ठाकुर, जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मी साहू के साथ ही अनेक जनप्रतिनिधि शामिल रहे। वहीं अधिकारियों में कलेक्टर निलेश क्षीरसागर, पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल,वरिष्ठ अधिकारी और श्रद्धालु मौजूद थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.