GLIBS

डॉ.चरणदास महंत ने आकाशवाणी से किया जनता को संबोधित, पुनः प्रसारण 9 अप्रैल की सुबह

रविशंकर शर्मा  | 08 Apr , 2020 10:25 PM
डॉ.चरणदास महंत ने आकाशवाणी से किया जनता को संबोधित, पुनः प्रसारण 9 अप्रैल की सुबह

रायपुर। विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने कोविड 19 कोरोनो संक्रमण के बचाव को लेकर बुधवार को आकाशवाणी रायपुर से जनता को संबोधित किया। मीडिया प्रभारी घनश्याम राजू तिवारी ने बताया कि इस डॉ. मंहत के संबोधन का पुनः प्रसारण आकाशवाणी में 9 अप्रैल गुरुवार सुबह 7 बजकर 10 मिनट पर किया जाएगा। डॉ.चरणदास महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रेम,मानवता, भाईचारा, आपसी सौहाद्र के चलते आज यह स्थिति है कि हमारे प्रदेश में कोई जनहानि नहीं हुई हैं और हम कोरोना मुक्त राज्य से मात्र एक कदम की दूरी पर है, जो प्रदेश की ढाई करोड़ जनता के सहयोग, धैर्य की पहचान है। इसके लिए मैं उनके प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें बधाई देता हूं। विस अध्यक्ष डॉ.महंत ने कहा कि मानवता पर खतरे को देखते हुए कोरोना संक्रमण की गंभीरता को भाँपते हुए मैंने बजट सत्र को अनिश्चित कालीन के लिये समाप्त करना सही समझा। छत्तीसगढ़ के लोगों का यहाँ की भौगोलिक परिस्थिति आबो हवा तालाब,नरवा के पानी से उनकी बीमारी से लड़ने की क्षमता (एम्युनिटी पवार) ज्यादा है,जिसकी चलते भी यहाँ के लोग सुरक्षित है।

लॉक डाउन के चलते परिवारों को भोजन की होने वाली समस्या पर डॉ.महंत ने कहा कि मैंने अपनी ओर से सभी विधायकों को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि प्रदेश में एक भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए। आप सभी अपने अपने क्षेत्र की जनता के बीच जाए और बुनियादी सुविधा, स्वास्थ्य सुविधा,चावल-दाल की व्यवस्था करें। राज्य सरकार ने आम गरीबों को दो माह का चावल, दाल, शक्कर, चना, गुड़ देकर बड़ी राहत देने का कार्य किया है। डॉ.महंत ने मानव धर्म का पालन करने की सीख देते हुए प्रदेश की जनता से अपील की है कि, संत कबीर दास, बाबा गुरु घासीदास का संदेश है कि सुख-दुख में साथ चले। डॉ.चरणदास महंत ने हनुमान जयंती पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए चौपाई "नासे रोग हरे सब पीरा" जपत निरंतर हनुमत बल बीरा" संकट कटय मिटये सब पीरा" जो सुमिरये हनुमत बल बीरा" उच्चारण करते हुए कहा कि,हनुमानजी महाराज सभी के संकट हरे उनके दुख दर्द दूर करें यह प्रार्थना करता हूँ।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.