GLIBS

प्राइवेट अस्पताल से बेहतर इलाज की सुविधाएं है जिला अस्पताल मेंः जयसिंह अग्रवाल

बीएन यादव  | 14 Jan , 2021 09:20 PM
प्राइवेट अस्पताल से बेहतर इलाज की सुविधाएं है जिला अस्पताल मेंः जयसिंह अग्रवाल

कोरबा। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने गुरूवार को कोरबा शहर स्थित जिला अस्पताल में विभिन्न नई सुविधाओं का लोकार्पण किया। राजस्व मंत्री ने इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में दो यूनिट मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर,10 बिस्तरों का इमरजेंसी ट्रॉमा यूनिट, 10 बिस्तरों का आधुनिक आईसीयू एवं आठ बिस्तरों का बर्न यूनिट का उद्घाटन किया। अग्रवाल ने जिले के लोगों की सेवा में स्वास्थ्य सुविधाओं की बढ़ोत्तरी करते हुए अत्याधुनिक, रिमोट कंट्रोल चलित सेंसर युक्त आपरेशन थियेटर को जिला अस्पताल में प्रारंभ किया। इस दौरान राजस्व मंत्री ने कहा कि जिला में इन सभी सुविधाओं के शुरू हो जाने से प्राइवेट अस्पताल से बेहतर सुविधाएं आज से उपलब्ध हो गईं हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार लोगों की स्वास्थ्य सुविधाओं में लगातार बढ़ोत्तरी कर रही है। मोहल्ला क्लीनिक भी शुरू किए जाएंगे,जिसका परीक्षण चल रहा है। उन्होंने कहा कि जिला खनिज न्यास मद से सबकी सलाह से विचार.विमर्श करके जनसेवा में राशि खर्च की जाती है। डीएमएफ मद को ज्यादा से ज्यादा चिकित्सा और स्वास्थ्य क्षेत्र में सदुपयोग किया जा रहा है। आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित स्वास्थ्य सुविधाओं के लोकार्पण समारोह में महापौर नगर निगम कोरबा  राजकिशोर प्रसाद, सभापति नगर निगम श्याम सुंदर सोनी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीबी बोडे, सिविल सर्जन डॉ. अरूण तिवारी सहित जिला अस्पताल के समस्त मेडिकल स्टाफ तथा नागरिक उपस्थित रहे।


राजस्व मंत्री अग्रवाल ने समस्त जिलेवासियों को बधाई देते हुए कहा कि जिन स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए बड़े शहर जाना पड़ता था तथा लाखों रूपए खर्च करने पड़ते थे अब वह सुविधाएं जिला अस्पताल में उपलब्ध है। डायलिसिस की आवश्यकता वाले मरीजों की सुविधा के लिए पांच डायलिसिस मशीन युक्त सेंटर भी जिलेवासियों के लिए निःशुल्क उपलब्ध है। आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित आपरेशन थियेटर शुरू किए गए हैं। दुर्घटना में जलने वाले मरीजों को पहले पांच .सात घंटे रायपुर ले जाने में समय लगता था। समय में देरी होने के कारण मरीज की जान बचाने में दिक्कत होती थी। अब जिला अस्पताल में स्थापित बर्न यूनिट के माध्यम से ऐसे मरीजों को तत्काल ईलाज की सुविधा मिल सकेगी। जिससे मरीज की जान बच सकेगी। उन्हांने कहा कि जिले में मेडिकल स्टॉक की बढ़ोत्तरी के लिए 100 से अधिक डॉक्टर, नर्सें, पैरामेडिकल स्टाफ की भर्ती की जाएगी जिससे लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलेगी। उन्होंने सभी मेडिकल स्टॉक से अनुरोध करते हुए कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में काम करते हुए आप लोग का फर्ज और नैतिक जिम्मेदारी यह है कि मरीजों की ईमानदारी से सेवा करें। आप लोग को यह जिम्मेदारी सेवा भाव के लिए दी गई है इसलिए मैं चाहूंगा कि आप लोग बेहतर तरीके से काम करें। आम आदमी, गरीब तथा दूरस्थ वनवासी ईलाज के लिए आते हैं उन्हें भटकना ना पड़े और सभी का उचित ईलाज किया जाए। राजस्व मंत्री ने डॉक्टरों से कहा कि बिना वजह किसी भी मरीज को निजी अस्पताल में रिफर ना किया जाए।

 

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.