GLIBS

लंबित आवेदनों का शीघ्र निराकरण करें विभाग :कलेक्टर

वैभव चौधरी  | 23 Feb , 2021 05:46 PM
लंबित आवेदनों का शीघ्र निराकरण करें विभाग :कलेक्टर

धमतरी। जिले में मुख्यमंत्री जनचौपाल, प्रभारी मंत्री कार्यालय से मिले पत्र और कलेक्टर जनचौपाल के लंबित पत्रों का गुणवत्तापूर्वक और शीघ्र निराकरण करने पर कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने जोर दिया है। साथ ही उन्होंने रोस्टर बनाने कहा है, जिसके आधार पर हर माह के पहले और चौथे शनिवार को आयोजित किए जाने वाले जनचौपाल शिविर में से किसी एक शिविर में जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद रह सकें। इसके लिए उन्होंने अपर कलेक्टर दिलीप अग्रवाल को जल्द से जल्द रोस्टर बनाने के लिए कहा है। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय सीमा की बैठक ले रहे थे। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत मयंक चतुर्वेदी को सुनिश्चित करने कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत अधिक से अधिक श्रमिकों को रोजगार मुहैय्या हो। इस पर मयंक चतुर्वेदी ने बताया कि मनरेगा के तहत जिले में फिलहाल 52 हजार श्रमिकों को रोज काम मिल रहा है। इस अवसर पर कलेक्टर ने विधानसभा सत्र के मद्देनजर सभी अधिकारियों को सख्त हिदायत दी कि बिना अनुमति कोई जिला मुख्यालय ना छोड़े।

उन्होंने यह भी निर्देशित किया है कि विधानसभा में लगे प्रश्नों के लिए तैयार की जाने वाली जानकारी में एहतियात बरतें। कलेक्टर ने बैठक में जिले के 22 गौठानों को सुव्यवस्थित और मॉडल बनाने के लिए सभी विभागों को आपसी सामंजस्य से काम करने पर जोर दिया। जिले में कोरोना टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने प्रथम पंक्ति के कोरोना वारियर्स का शत्-प्रतिशत टीकाकरण करने पर जोर दिया। बताया गया कि पहले चरण में 7597 कोरोना वारियर्स को कोविशील्ड का प्रथम डोज दिया गया, वहीं 28 दिन बाद दूसरे डोज का टीकाकरण किया जा रहा है। इसके तहत अब तक एक हजार एक सौ ग्यारह लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इस मौके पर उन्होंने समय सीमा के लंबित प्रकरणों की भी विभागवार समीक्षा की और उनके सही तरीके से निराकरण पर जोर दिया। बैठक में वन मंडलाधिकारी सतोविशा समाजदार सहित जिला स्तरीय अधिकारी और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा ब्लॉक स्तरीय अन्य अधिकारी जुड़े रहे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.