GLIBS

सॉफ्टवेयर से लिमिट हटाने की मांग करते हुए किसानों ने किया नेशनल हाईवे पर चक्काजाम

सॉफ्टवेयर से लिमिट हटाने की मांग करते हुए किसानों ने किया नेशनल हाईवे पर चक्काजाम

गरियाबंद। 2 दिन पूर्व किसानों के द्वारा राज्य शासन को दिए गए अल्टीमेटम के अनुरूप बुधवार को सैकड़ों की संख्या में गरियाबंद क्षेत्र के किसान आदिवासी समाज भवन मजरकट्टा के सामने एकत्र हुए और उन्होंने चक्का जाम करने का निर्णय लिया। इसके अनुरूप वे सड़क पर चक्का जाम कर रहे हैं। इस अवसर पर दोनों और गाड़ियों की कतार लग गई है और किसान सड़कों पर बैठकर शासन प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी कर रहे हैं। इस मुद्दे को लेकर शासन और प्रशासन दोनों मौके पर पहुंच गए हैं। जहां थाना प्रभारी यहां पर मौके पर पहुंचे लोगों को सड़क से हटाने का प्रयास कर रहे हैं। गरियाबंद के तहसीलदार राकेश साहू और एसडीएम चौरसिया लगातार किसानों को समझाइश दे रहे हैं। वहीं किसानों की मांग है कि उनके धान खरीदी का कोटे में कटौती की गई है उसे बंद किया जाए और यथावत पूरा का पूरा धान खरीदा जाए वहीं अधिकारी उन्हें लगातार समझाने का प्रयास कर रहे हैं कि जो होगा वह किसानों के हितो में होगा। 

किसानों के हितो से हटकर कुछ भी नहीं होगा किसानों की पूर्व धान खरीदा जाएगा लेकिन किसानों का कहना है कि कमप्यूटर मे लगाई गई रोक को तत्काल हटाया जाए। इसके बिना वे सड़क से नहीं उठेंगे वहीं दूसरी ओर यह भी देखने को मिल रहा है कि दोनों ओर वाहनों की कतार लग गई है और आवागमन अवरुद्ध हो गया है जिसे लेकर यात्री परेशान है। किसान लगातार अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। वहीं प्रशासनिक अमला भी इस बात को लेकर परेशान हैं की नगरीय  निकाय क्षेत्र होने के करण आचार संहिता लागू है जिसे लेकर वह भी परेशान है। ऐसी स्थिति में वे क्या करे वह लगातार किसानों को समझाइश देने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन किसानों का कहना है कि धान खरीदी ना होने से उनके रोजी रोटी खत्म हो गई हैं। उनके बच्चों का खाने पीने और लालन-पालन में भी काफी दिक्कतें आ रही है। किसान इस मुद्दे पर अब सड़क की लड़ाई लड़ने की बात कह रहे हैं। वहीं पुलिस व एस डी एम चौरसिया समझाने का प्रयास कर रहे हैं। 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.