GLIBS

टिकटॉक बैन के बाद भारतीय ऐप चिंगारी की डिमांड बढ़ी, हर घंटे एक लाख बार किया जा रहा है डाउनलोड

ग्लिब्स टीम  | 30 Jun , 2020 05:26 PM
टिकटॉक बैन के बाद भारतीय ऐप चिंगारी की डिमांड बढ़ी, हर घंटे एक लाख बार किया जा रहा है डाउनलोड

नई दिल्ली। भारत चीन सीमा विवाद के बाद देशभर में भड़की चीन विरोधी भावना अब चीनी प्रॉडक्ट्स के बॉयकॉट तक पहुंच गई है। सरकार ने भी 59 चीनी ऐप पर बैन लगा दिया है। इसके बाद गूगल ने भी अपने प्लेस्टोर से इन ऐप को हटा दिया है। देश में चीन के टिकटॉक को टक्कर देने वाले भारतीय ऐप चिंगारी की लोकप्रियता काफी तेजी से बढ़ती जा रही है। भारत सरकार द्वारा टिकटॉक पर बैन लगाए जाने के बाद चिंगारी ऐप के डाउनलोड्स में भी तेजी आई है। खबर के मुताबिक चिंगारी के को-फाउंडर और चीफ प्रॉडक्ट ऑफिसर सुमित घोष ने अपने एक ट्वीट में बताया कि चिंगारी एप हर घंटे एक लाख बार डाउनलोड किया जा रहा है। ज्यादा डाउनलोड्स की वजह से चिंगारी एप का सर्वर डाउन हो गया,जिसके बाद एप के को-फाउंडर को ट्विटर पर लोगों से धैर्य रखने की अपील करनी पड़ी। चिंगारी ऐप में विडियो को अपलोड और डाउनलोड किया जा सकता है। इस ऐप में फ्रेंड्स के साथ चैटिंग, नए लोगों से बातचीत, वॉट्सऐप स्टेटस, विडियो, ऑडियो क्लिप्स, स्टिकर्स और फोटोज के साथ क्रिएटिविटी का आनंद लिया जा सकता है। चिंगारी ऐप को प्ले स्टोर पर अभी तक 25 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। ऐप अभी अंग्रेजी के अलावा 9 और भाषाओं में उपलब्ध है। ऐप हिंदी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, कन्नड़, पंजाबी मलयालम, तमिल और तेलगू भाषा सपॉर्ट करता है। सुमित घोष के मुताबिक इस ऐप पर सबसे ज्यादा एक्टिव 20 परसेंट यूजर्स रोजाना औसतन 1.5 घंटे समय व्यतीत करते हैं। चिंगारी ऐप कंटेंट क्रिएटर को उनके वीडियो के वायरल होने के आधार पर पैसे देते हैं। वहीं यूजर्स को हर वीडियो के अपलोड पर प्रति व्यू के हिसाब से प्वाइंट मिलते हैं। इस प्वाइंट को पैसे के लिए रिडीम किया जा सकता है। चिंगारी ऐप एंड्राएड और आईओएस दोनों के लिए उपलब्ध है। चिंगारी ऐप में गेम जोन भी है।

 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.