GLIBS

वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स डे पर हुई वाद विवाद प्रतियोगिता

ग्लिब्स टीम  | 13 Dec , 2019 09:35 PM
वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स डे पर हुई वाद विवाद प्रतियोगिता

रायपुर। एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स की ओर से वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स डे के अवसर पर डिस्ट्रिक्ट लेवल इंटर स्कूल डिबेट कॉम्पिटीशन का आयोजन किया गया। इसमें 20 स्कूलों के विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। वृंदावन हाल में आयोजित डिबेट मानवाधिकार का भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव विषय पर हुआ। इसमें मुख्यअतिथि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग नई दिल्ली के असिस्टेंट रजिस्ट्रार सीएस मावरी थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता ऐसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुधीर अग्रवाल और विशेष अतिथि विख्यात शिक्षाविद् एवं भारत शिक्षा रत्न जवाहर सूरी शेट्टी रहे। जवाहर सूरी शेट्‌टी ने कहा कि मानवाधिकार का हनन हाेता है क्याेंकि हम दूसरे के अधिकार काे नहीं समझते हैं। हमें ग्राउंड तक पहुंच कर और गरीब व्यक्ति काे साेच कर नियम बनाने चाहिए। यदि ऐसा हाेगा ताे तकलीफे नहीं आएगी। हम कई राजाओं की कहानियां पाठ्यक्रमों में पढ़ाते है। यदि उनकी जगह में उन्होंने जो किया और उसके क्या परिणाम रहे ये पढ़े तो वे समस्याएं दोबारा नहीं होंगी। सही समाधान देंगे तो ह्यूमन राइट वायलेंट नहीं होगा।
स्टेट प्रसिडेंट पंकज चोपड़ा ने बताया कि डिस्ट्रिक्ट लेवल में बेहतर परफॉर्म करने वाले स्टूडेंट्स का सलेक्शन स्टेट लेवल और यहां के विनर्स का सलेक्शन नेशनल लेवल के लिए होगा। कार्यक्रम में संभागीय समिति और जिला समिति का शपथ ग्रहण समारोह भी रखा गया। प्रयास स्कूल के बच्चों ने भी डिबेट में शामिल हुए और अपनी बात रखी। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ। कार्यक्रम में संस्था के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विकास पटवा, राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण वार्ष्णेय, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मोहनलाल अग्रवाल, राष्ट्रीय प्रवक्ता देवेंद्र गोयल, राष्ट्रीय सचिव लक्ष्मी नारायण वार्ष्णेय, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हिमांशु बिड़ला, प्रदेश संगरक्षक प्रमोद लुनावत, प्रदेश अध्यक्ष पंकज चोपड़ा, प्रदेश सचिव पंकज कुकरेजा, अतुल अग्रवाल, आशीष जैन, शिल्पा नाहर, हरदीप कौर, सुषमा सामंतरॉय, सुमित गुप्ता, अजय राठौड़, ओपी चंद्राकर, रामकुमार टंडन,राजेश चौरासिया,अनिल कुचेरिया, एसपी सिंह, प्रफुल संचेती, रमेश चोपड़ा, बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष विजय मालू, सुनील गोलछा, विनय जैन विशेष रूप से उपस्थित थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.