GLIBS

सामुदायिक शौचालयों के लिए ड्राइंग डिजाइन स्पर्धा में प्रविष्ठि भेजने की अंतिम तिथि बढ़ाई गई

यामिनी दुबे  | 20 Sep , 2020 02:18 PM
सामुदायिक शौचालयों के लिए ड्राइंग डिजाइन स्पर्धा में प्रविष्ठि भेजने की अंतिम तिथि बढ़ाई गई

रायपुर। सामुदायिक शौचालयों के उत्कृष्ट ड्राइंग-डिजाइन प्रतियोगिता के लिए प्रविष्टि भेजने की अंतिम तिथि अब 25 सितम्बर कर दी गई है। राज्य स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की ओर से  इस स्पर्धा में ज्यादा से ज्यादा प्रतिभागियों को हिस्सा लेने का मौका देने के लिए अंतिम तिथि बढ़ाई गई है। पहले प्रविष्टि भेजने के लिए अंतिम तिथि 20 सितम्बर निर्धारित की गई थी। सामुदायिक शौचालयों के सर्वश्रेष्ठ मॉडल का चयन दो चरणों में किया जाएगा। पहले चरण में प्रतिभागियों को सबसे पहले ड्राइंग एवं डिजाइन के साथ ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसमें चयनित पांच सर्वश्रेष्ठ मॉडलों में प्रत्येक को पांच-पांच हजार रुपए की राशि प्रदान की जाएगी। पहले चरण के विजेताओं को दूसरे चरण में प्रस्तावित ड्राइंग एवं डिजाइन के प्रस्तुतिकरण के साथ थ्री-डी मॉडल (3-D Model) प्रस्तुत करना होगा। द्वितीय चरण में सर्वश्रेष्ठ ड्राइंग एवं डिजाइन का चयन नामांकित जूरी द्वारा किया जाएगा।

मिशन की ओर से राज्य स्वच्छता पुरस्कार-2020 के अंतर्गत साढ़े तीन लाख रुपए, साढ़े चार लाख रुपए और साढ़े पांच लाख रुपए लागत के सामुदायिक शौचालयों के सर्वश्रेष्ठ मॉडल को क्रमशः एक लाख रुपए, सवा लाख रुपए और पौने दो लाख रुपए के नगद पुरस्कार दिए जाएंगे। देश का कोई भी आर्किटेक्ट या इंजीनियर इस प्रतियोगिता में भाग ले सकता है। प्रतियोगिता के लिए पंजीयन, नियम व शर्तें मिशन की वेबसाइट www.sbmgcg.in पर देखी जा सकती है।   विजेता प्रतिभागियों को गांधी जयंती पर 2 अक्टूबर को पुरस्कार दिए जाएंगे। प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए राज्य स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की वेबसाइट www.sbmgcg.in पर सीधे प्रविष्टि की जा सकती है। मिशन कार्यालय की ई-मेल आईडी sbmg.cg@gov.in पर या राज्य मिशन कार्यालय, नीर भवन, सिविल लाइंस, रायपुर में डाक के द्वारा या स्वयं उपस्थित होकर भी आवेदन जमा किया जा सकता है।

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अधिकारियों ने बताया कि मिशन के पहले चरण (अक्टूबर-2014 से मार्च-2020) के तहत ग्रामीण क्षेत्रों को खुले में शौचमुक्त घोषित किया जा चुका है। खुले में शौचमुक्त की स्थिति को बनाए रखने के लिए सार्वजनिक स्थलों पर सामुदायिक शौचालयों की आवश्यकता महसूस की जा रही है। राज्य में ऐसे सामुदायिक शौचालयों के निर्माण का लक्ष्य है जो सभी वर्गों एवं समुदायों के लोगों के लिए सहज व सुविधाजनक हो। इन सामुदायिक शौचालयों में तृतीय लिंग व्यक्तियों सहित दिव्यांगों, महिलाओं एवं पुरूषों के लिए अलग-अलग शौचालय, मूत्रालय एवं हाथ धुलाई की सुविधा सुनिश्चित की जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में हाट-बाजारों, बस-स्टैण्डों, धार्मिक स्थलों, तालाब के किनारे, हाई-वे के किनारे तथा अनुसूचित जाति एवं जनजाति की बसाहटों में सामुदायिक शौचालय बनाए जाएंगे। राज्य स्वच्छता पुरस्कार-2020 के अंतर्गत समावेशी सामुदायिक शौचालयों के ड्राइंग एवं डिजाइन आमंत्रित किए जा रहे है। प्रतिभागियों से साढ़े तीन लाख रूपए, साढ़े चार लाख रूपए और साढ़े पांच लाख रूपए की लागत के सामुदायिक शौचालयों के ड्राइंग एवं डिजाइन आमंत्रित किए गए हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.