GLIBS

आत्मनिर्भर निधि से ठेले, गुमटी लगाने वालों को मिलेगा 10 हजार लोन, मिलेगी 7 प्रतिशत छूट  

संध्या सिंह  | 30 Jun , 2020 06:54 PM
आत्मनिर्भर निधि से ठेले, गुमटी लगाने वालों को मिलेगा 10 हजार लोन, मिलेगी 7 प्रतिशत छूट
 

भिलाई। पीएम स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना अंतर्गत निगम भिलाई क्षेत्र में शहरी पथ विक्रेताओं को 10 हजार का लोन प्रदाय करने की योजना है। उपायुक्त तरुण पाल लहरें एवं मिशन मैनेजर नलिनी तनेजा ने बताया कि शहरी पथ विक्रेता सड़क किनारे पसरा, रेहड़ी या ठेला लगाकर अपना व्यवसाय करते हुए आमजन को रोजमर्रा का सामान उपलब्ध कराते हैं और इसी से अपना और अपने परिवार का भरण पोषण भी करते हैं। कोविड-19 संक्रमण काल में लॉक डाउन की अवधि में इन शहरी पथ विक्रेताओं का व्यवसाय काफी प्रभावित हुआ है। जिन्हें पुनः आत्मनिर्भर बनाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री शहरी पथ विक्रेता आत्मनिर्भर निधि की शुरुआत की गई है। इसमें ऐसे पथ विक्रेता जिन्हें अपने व्यवसाय को पुनः व्यवस्थित करने के लिए अधिकतम 10 हजार तक ऋण की आवश्यकता है उन्हें राष्ट्रीयकृत बैंकों या माइक्रो फाइनेंस कंपनी के माध्यम से ऋण उपलब्ध कराया जाएगा।

अधिक से अधिक पथ विक्रेताओं को योजना का लाभ दिलाने का कार्य निगम भिलाई द्वारा किया जाएगा। इसके लिए इच्छुक पथ विक्रेता अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए एवं फॉर्म लेने के लिए निगम मुख्य कार्यालय के कक्ष क्रमांक 27 में राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन की मिशन मैनेजरसे संपर्क कर सकते हैं। फॉर्म जमा करने के बाद राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के द्वारा इसे बैंकों को प्रेषित करने का कार्य किया जाएगा।ब्याज अनुदान के रूप में मिलेगी 7 प्रतिशत मिलेगी छूट  यह ऋण केवल 1 साल के लिए होगा। नियमित पुनरभुगतान करने वाले हितग्राहियों को ब्याज अनुदान के रूप में 7 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। इस योजना में कोई पूंजीगत अनुदान नहीं है।

फूल विक्रेताओं के लिए बनाया गया वेंडर जोन अपनी ओर करते हैं आकर्षित

फूल विक्रेताओं के लिए प्रदर्शनी परिसर में वेंडर जोन बनाया गया है। पहले ऐसे 25 फूल विक्रेता सुपेला आकाश गंगा सहित अन्य स्थानों पर बिखरे हुए रहकर फूल बेचने का कार्य करते थे, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के माध्यम से उन्हें प्लेटफार्म देते हुए शेड, नल कनेक्शन इत्यादि प्रदान किया गया है। जोन क्रमांक 2 वैशाली नगर वार्ड 15 में लगने वाले साप्ताहिक बाजार को व्यवस्थित करने के तहत वहां पर भी प्लेटफार्म बना कर दिया गया है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.