GLIBS

कलेक्टर ने कहा, नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में लाउड स्पीकर से कोविड 19 से बचाव के लिए करें जागरूक

कुशल चोपड़ा  | 07 Sep , 2020 09:30 PM
कलेक्टर ने कहा, नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में लाउड स्पीकर से कोविड 19 से बचाव के लिए करें जागरूक

बीजापुर। जिले के नगरीय तथा ग्रामीण इलाकों में व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाये। जनजागरूकता अभियान के लिए स्थानीय मैदानी अमले सहित शिक्षित युवाओं तथा वालेंटियर्स द्वारा आम जनता को कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम सम्बन्धी समझाईश दी जाये। इसके साथ ही अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार, सीईओ जनपद पंचायत तथा अन्य खंड स्तरीय अधिकारियों द्वारा गांवों में जाकर लोगों को बचाव एवं रोकथाम सम्बन्धी जानकारी देने सहित सजगता बरतने के लिए समझाइश दिया जाये। नगरीय तथा ग्रामीण क्षेत्रों में इस के लिए ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से उद्घोषणा कर आम जनता को जागरूक किया जाये। जिले में कोविड- 19 के नियंत्रण एवं उपचार के लिए सम्बन्धित विभागों के द्वारा सक्रिय रूप से समन्वय सुनिश्चित किया जाये।

जिले में कोविड- 19 के लिए काॅल सेंटर और कंट्रोल रूम हर दिन 24 घंटे संचालित रहेगी,जिससे आम जनता से सूचना प्राप्त होने के साथ ही उन्हे त्वरित परामर्श सम्बन्धी सहायता उपलब्ध कराया जा सके। यह निर्देश कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने कलेक्टोरेट में आयोजित स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को दिये। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. बीआर पुजारी सहित जिले में पदस्थ एसडीएम, तहसीलदार, सीईओ जनपद पंचायत, नगरीय निकायों के सीएमओ, खंड चिकित्सा अधिकारी, कोविड-19 के नोडल अधिकारी तथा लोक निर्माण, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी, स्कूल शिक्षा, आदिवासी विकास, महिला एवं बाल विकास ईत्यादि विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने बैठक के दौरान जिले में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम सम्बन्धी दिशा-निर्देशों के अनुपालन तथा आम लोगों को समझाईश देने के लिए व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाये जाने अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होने इस दिशा में मैदानी स्तर पर जागरूकता टीम गठित कर घर-घर जाकर लोगों को समझाईश देने कहा।

इस के लिए पंचायत सचिव, शिक्षक, रोजगार सहायक, मितानिन, पंचायत पदाधिकारी, शिक्षित युवाओं को शामिल कर ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाये जाने कहा। वहीं नगरीय ईलाकों में वार्ड पार्षद, शिक्षकों, स्थानीय शिक्षित युवाओं, वालेंटियर्स को सम्मिलित कर घर-घर संपर्क करने सहित बचाव एवं रोकथाम के लिए सतर्कता बरतने इन दलों को विशेष रूप से प्रशिक्षण प्रदान किया जाये। इन दलों द्वारा जागरूकता अभियान के दौरान जिला स्तर पर स्थापित काॅल सेंटर और कोविड कंट्रोल रूम, कोविड के लक्षण सहित कोविड के लक्षण परिलक्षित होने पर तत्काल सूचना देने आदि के बारे में भी आम लोगों को अवगत कराया जाये। उन्होने अधिकारियों को निर्देशित किया कि आम जनता से बचाव एवं रोकथाम के लिए जिला प्रशासन को सहयोग देने की अपील करते हुए अवगत कराया जाये कि कोविड-19 के बारे में जानकारी और सजगता ही बचाव एवं नियंत्रण है। 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.