GLIBS

कलेक्टर ने कम्पोजिट बिल्डिंग में दी दबिश, गैरहाजिर अधिकारी-कर्मचारियों को जारी किया कारण बताओ नोटिस

वैभव चौधरी  | 18 Nov , 2019 04:07 PM
कलेक्टर ने कम्पोजिट बिल्डिंग में दी दबिश, गैरहाजिर अधिकारी-कर्मचारियों को जारी किया कारण बताओ नोटिस

धमतरी। कलेक्टोरेट में स्थित विभिन्न कार्यालयों में अधिकारी-कर्मचारियों की उपस्थिति उनके दायित्वों की जमीनी हकीकत जानने सोमवार सुबह कलेक्टर रजत बंसल ने कम्पोजिट बिल्डिंग में दबिश दी। इस दौरान उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय और रोजगार कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया, जहां कार्यालयीन समय में अनुपस्थित पाए गए अधिकारियों एवं कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। सुबह 11.30 बजे कलेक्टर ने कलेक्टोरेट स्थित कम्पोजिट बिल्डिंग (संयुक्त कार्यालय) में औचक निरीक्षण किया। सबसे पहले वे बिल्डिंग के दूसरे माले पर स्थित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय गए, जहां पर सहायक संचालक (योजना) एल.आर. मगर कार्यालय से अनुपस्थित पाए गए। इसी तरह यहां पदस्थ सहायक ग्रेड-दो राकेश राव घोरपड़े, वरिष्ठ अंकेक्षक आर.के. देवांगन भी कार्यालय से नदारद पाए गए। सभी अनुपस्थित कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने और संतोषजनक जवाब नहीं दिए जाने पर एक वेतनवृद्धि रोकने के निर्देश कलेक्टर ने दिए हैं।

इसी तरह शिक्षण अवधि में डाक लेकर डी.ई.ओ. कार्यालय पहुंचे शासकीय हाई स्कूल दुधवारा (मगरलोड) के व्याख्याता  डी.आर. बंजारे को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने के कलेक्टर ने निर्देशित किया। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की विभिन्न शाखाओं में दबिश देते हुए अलमारियां खुलवाकर नस्तियों एवं पंजियों का भी निरीक्षण किया। कलेक्टर ने सभी मौजूद कर्मचारियों को सख्त लहजे में निर्देशित किया, कि वे कार्यों व दायित्वों पर ही फोकस करें और उच्चाधिकारी के आदेश-निर्देश का पालन करें। इस मामले में किसी तरह की लापरवाही या उदासीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी और जवाबदेही के साथ कार्य नहीं करने वालों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। कार्यालय की जेराॅक्स मशीन बंद पाए जाने पर उसकी लिस्टिंग करने के भी निर्देश कलेक्टर ने दिए। इसके अलावा उन्होंने रोजगार कार्यालय का निरीक्षण किया, जहां पर सभी अधिकारी व कर्मचारी मौजूद पाए गए। इस दौरान कलेक्टर ने जिला कार्यालय की भांति कम्पोजिट बिल्डिंग परिसर में भी प्रतिदिन प्रार्थना आयोजित कराने के निर्देश दिए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.