GLIBS

आदिवासी क्षेत्रों में टीकाकरण की पहुंच बढ़ाने स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में कल मंथन

रविशंकर शर्मा  | 11 Sep , 2019 04:42 PM
आदिवासी क्षेत्रों में टीकाकरण की पहुंच बढ़ाने स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में कल मंथन

 

रायपुर। आदिवासी क्षेत्रों में टीकाकरण की पहुंच बढ़ाने स्वास्थ्य विभाग द्वारा 12 सितम्बर को जगदलपुर में एक दिवसीय राज्यस्तरीय परामर्श कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, विभागीय अधिकारी, जनजातीय विशेषज्ञ, विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनिसेफ  और शिशु रोग विशेषज्ञ दिनभर चर्चा के बाद वनांचलों में टीकाकरण के सुदृढ़ीकरण के लिए कार्ययोजना तैयार करेंगे। कार्यशाला जगदलपुर कलेक्टोरेट के प्रेरणा हॉल में सुबह 10 बजे शुरू होगी। कार्यशाला में अमरकंटक के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, भारतीय शिशु रोग अकादमी, विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनिसेफ  तथा स्वास्थ्य विभाग का मैदानी अमला टीकाकरण के प्रति वनवासियों को जागरूक और प्रेरित करने के उपाय बताएंगे। कार्यशाला में सरकार द्वारा संचालित टीकाकरण कार्यक्रमों को जनजातीय क्षेत्रों में सुलभ बनाने और इसके प्रभावी क्रियान्वयन के बारे में भी चर्चा होगी। कार्यशाला में जनजाति आबादी की बहुलता वाले 15 जिलों बलरामपुर-रामानुजगंज, बस्तर, बीजापुर, बिलासपुर, दंतेवाड़ा, गरियाबंद, जशपुर, कांकेर, कोंडागांव, कोरिया, नारायणपुर, राजनांदगांव, सरगुजा, सूरजपुर और सुकमा के मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक तथा जिला टीकाकरण अधिकारी सहित महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता और मितानिन प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। इन जिलों के 86 विकासखंडों में सभी बच्चों और गर्भवती महिलाओं तक टीकाकरण की पहुंच सुनिश्चित करने मैदानी अमले के अनुभव और विशेषज्ञों के सुझाव के आधार पर कार्यशाला में रणनीति तैयार की जाएगी। कार्यशाला में रायपुर, राजनांदगांव और जगदलपुर मेडिकल कालेज के शिशु रोग एवं कम्युनिटी मेडिसीन विशेषज्ञों को भी आमंत्रित किया गया है। कार्यशाला के निष्कर्षों को भारत सरकार से भी साझा किया जाएगा, ताकि वनांचलों में टीकाकरण के लिए प्रभावी नीतियां बनाई जा सके।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.