GLIBS

पढ़ाई के सथ विभिन्न कलाओं के गुर भी सिखेंगे बच्चें, डॉ. प्रेमसाय सिंह ने शुरू किया ''आई एम द वन कार्यक्रम''

रविशंकर शर्मा  | 15 May , 2020 09:45 PM
पढ़ाई के सथ विभिन्न कलाओं के गुर भी सिखेंगे बच्चें, डॉ. प्रेमसाय सिंह ने शुरू किया ''आई एम द वन कार्यक्रम''

रायपुर। पढ़ई तुहंर दुआर वेबपोर्टल को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशानुरूप शिक्षा विभाग ने और वृहद स्वरूप दे दिया है। इस पोर्टल में आई एम द वन कार्यक्रम को भी अब शामिल किया गया है। इसके जरिए स्कूली बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ अब विभिन्न कलाओं की भी शिक्षा दी जाएगी। बच्चे अपनी रूचि के अनुसार इस वेबपोर्टल के माध्यम से अपनी कला-प्रतिभा को भी निखार सकेंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने शुक्रवार को अपने निवास कार्यालय में आई एम द वन कार्यक्रम का शुभारंभ किया। स्कूल शिक्षा विभाग की इस पहल से स्कूली बच्चें ग्रीष्म अवकाश में पढ़ाई के साथ ही मनोरंजक ढंग विभिन्न कलाओं को सीख सकेंगे।  

इस कार्यक्रम के ऑनलाईन प्रोग्राम में देश के प्रसिद्ध क्रिकेटर वीवीएस लक्षमण, फोटोग्राफर डब्बू रत्नानी, किशनगढ़ शैली के चित्रकार पद्मश्री तिलक गीताई, योग गुरू आचार्य प्रतिष्ठा और कोरियोग्राफर सुमीत नामदेव के दिशा-निर्देशन में स्कूली बच्चे, क्रिकेट, योग, कोरियोग्राफी, पेंटिंग, फोटोग्राफी आदि के गुर सीख सकेंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि पढ़ई तुंहर दुआर वेबपोर्टल में पाठ्यपुस्तकों के अलावा अब बच्चों को मनोरंजक ढंग से विभिन्न कलाओं की शिक्षा के लिए शॉर्ट-टर्म कोर्स उपलब्ध होंगे। डॉ.टेकाम ने छत्तीसगढ़ के सभी शिक्षकों, पालकों और बच्चों से अपील की है कि लॉक डाउन के समय और बाद में भी अपने बच्चों को नई चीजें सीखने के लिए प्रेरित करें। इससे बच्चों की रूचि, जिज्ञासा एवं बौद्धिक विकास में वृद्धि होगी।

डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा कि राज्य में स्कूल 20 मार्च से बंद हैं। इतनी लंबी अवधि तक बच्चों का घर पर रहना एक बहुत मुश्किल काम है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विगत माह 7 अप्रैल को बच्चों की पढ़ाई जारी रखने ऑनलाईन व्यवस्था पढ़ई तुंहर दुआर के नाम से शुरू की। इस योजना के राज्य में उत्साहजनक नतीजे मिल रहे हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक 20 लाख से अधिक बच्चे और एक लाख 80 हजार से अधिक शिक्षक इस कार्यक्रम से जुड़ गए हैं। इसके अलावा महाविद्यालयीन विद्यार्थी और प्राध्यापक भी इससे जुड़ते जा रहे हैं।

डॉ. टेकाम ने कहा कि छत्तीसगढ़ में इसके लिए आइडिया टेक्नोवेशन ने इस अवधि में राज्य में बच्चों के लिए उनका विशेष कार्यक्रम आई एम द वन के निशुल्क उपयोग किए जाने का प्रस्ताव दिया है। इस कार्यक्रम में बच्चों और बड़ों के लिए बहुत सारे आकर्षक और उपयोगी ऑनलाइन कोर्सेस हैं, जो बहुत अच्छी गुणवत्ता के बनाए गए हैं। इस कार्यक्रम से सहजता से जुड़ा जा सकता है। स्कूल शिक्षा विभाग की वेबसाईट cgschool.in (सीजीस्कूलडॉटइन) पर मोबाइल से इसमें पंजीयन कर सीधे जुड़ सकते हैं और विभिन्न कोर्सेस में से अपनी इच्छा के कोर्स में शामिल होकर सुविधानुसार निर्धारित समय में इसे पूरा कर सकते हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.