GLIBS

मुख्यमंत्री की पहल अन्य राज्यों में फंसे 78 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिकों को 53 ट्रेनों से वापस छत्तीसगढ़ लाया गया

राहुल चौबे  | 04 Jun , 2020 09:33 PM
मुख्यमंत्री की पहल अन्य राज्यों में फंसे 78 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिकों को 53 ट्रेनों से वापस छत्तीसगढ़ लाया गया

रायपुर। नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लाॅकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण अन्य राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों तथा अन्य लोगों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर वापस लाने का सिलसिला लगातार जारी है। इब तक 53 ट्रेनों के माध्यम से 78 हजार श्रमिकों सहित अन्य लोगों को वापस लाया जा चुका है। राज्य सरकार द्वारा अन्य प्रदेशों से श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए कुल 59 श्रमिक स्पेशल ट्रेन तय की गई है, इनमें से 40 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों सहित बसों की सुविधा के लिए 3 करोड़ 97 लाख 88 हजार 490 रूपए की राशि खर्च की गई है। श्रम मंत्री डाॅ. शिवकुमार डहरिया ने बताया कि भवन एवं अन्य सन्ननिर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल द्वारा प्रवासी श्रमिकों को वापस छत्तीसगढ़ लाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन के लिए विभिन्न रेल मण्डलों को श्रमिकों के यात्रा व्यय के लिए आवश्यक राशि का भुगतान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि लाॅक डाउन के कारण श्रमिकों को जो छत्तीसगढ़ राज्य की सीमाओं पर पहुंच रहे है एवं राज्य से होकर गुजरने वाले सभी श्रमिकों के लिए नाश्ता, भोजन, स्वास्थ्य परीक्षण एवं परिवहन की निःशुल्क व्यवस्था से श्रमिकों कोे काफी राहत मिली है। छत्तीसगढ़ की सभी सीमाओं पर पहुंचने वाले प्रवासी श्रमिकों को, चाहे वो किसी भी राज्य के हो, उन्हें छत्तीसगढ़ का मेहमान मान कर शासन-प्रशासन के लोग उनकी हरसंभव मदद कर रहे हैं।डाॅ. डहरिया ने बताया कि श्रम विभाग के अधिकारियों का दल गठित कर विभिन्न औद्योगिक संस्थाओं, नियोजकों एवं प्रबंधकों से समन्वय कर श्रमिकों के लिए राशन एवं नगद आदि की व्यवस्था भी की जा रही है। प्रदेश के 26 हजार 205 श्रमिकों को 38 करोड़ 26 लाख रूपए बकाया वेतन का भुगतान भी कराया गया है। वहीं लाॅक डाउन के द्वितीय चरण में 21 अप्रैल से शासन द्वारा छूट प्रदत्त गतिविधियों एवं औद्योगिक क्षेत्रों में लगभग 1 लाख 4 हजार 749 श्रमिकों को पुनः रोजगार उपलब्ध कराया गया है और छोटे-बड़े 1405 से अधिक कारखानों में पुनः कार्य प्रारंभ हो गया है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.