GLIBS

सीमेंट पोल व फेंसिंग जालियां भी बनाने लगी है महिलाएं, खुद भी रोजगार से जुड़ रही है और सबको भी प्रेरित कर रही है

यामिनी दुबे  | 10 Nov , 2020 01:48 PM
सीमेंट पोल व फेंसिंग जालियां भी बनाने लगी है महिलाएं, खुद भी रोजगार से जुड़ रही है और सबको भी प्रेरित कर रही है

रायपुर/दंतेवाड़ा। महिलाएं लगातार ये साबित कर रही है कि वो ठान ले तो हर कार्य संभव है। इन दिनों महिलाएं सीमेंट के खंभे और फेंसिंग जाली निर्माण कर रही हैं। महिलाएं इस स्वरोजगार से खुद को सक्षम बनाएंगी और दूसरी महिलाओं को इस व्यवसाय के लिए प्रेरित करेंगी। अब तक सीमेंट पोल व जाली बनाने के लिए महिलाएं आगे नहीं आई थीं, लेकिन जिला पंचायत द्वारा संचालित प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा व बाड़ी प्रोजेक्ट के तहत जिले में 8 स्व-सहायता समूह व्यवसाय करने मन में ठानी और काम शुरू भी कर दी हैं। जिले में सभी पंचायतों में देवगुड़ी, गोठान का निमार्ण किया जा रहा है। इसमें घेराव के लिए सीमेंट पोल की आवश्यकता पड़ती है, इसीलिए जिले में 8 स्व-सहायता समूह द्वारा सीमेंट पोल का निमार्ण किया जा रहा है। वर्तमान स्थिति तक 4950 पोल, जिसे 14 लाख 85 हजार रुपए तक बेच चुके हैं। इस गतिविधि से 80 परिवार लाभान्वित हो रहे हैं। जिले में सचांलित समूहों द्वारा सीमेंट पोल निर्माण, दिशा महिला ग्राम संगठन टेकनार, सीता महिला ग्राम संगठन गंजेनार, रानी लक्ष्मी ग्राम संगठन गाटम, दीपक महिला ग्राम संगठन मैलावाड़ा, जागृति महिला कलस्टर संगठन पेन्टा सीमेंट पोल का निमार्ण कर रही है। जिले में 6 स्व-सहायता समूह द्वारा चैंन लिंक फेंसिंग का निमार्ण किया जा रहा है। इसमें दिशा महिला ग्राम संगठन भांसी, शांति महिला ग्राम संगठन मटेनार, रानी लक्ष्मी ग्राम संगठन गाटम, रोयेमुंग ग्राम संगठन मासौड़ी, जगदम्बे स्व सहायता समूह नागफनी, माँ शक्ति ग्राम संगठन कुआकोंडा समूहो ने वर्तमान स्थिति तक 1147 बण्डल, जिसे 30 लाख 96 हजार 9 सौ रुपए तक बेच चुके हैं। चैंन लिंक फेंसिंग निर्माण से 58 परिवार और सीमेंट पोल निमार्ण से 80 परिवारों लाभान्वित हो रहे हैं। चैंन लिंक फेंसिंग एवं सीमेंट पोल निमार्ण से जोड़ना उस क्षेत्र की महिलाओं के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। इससे ना सिर्फ महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं बल्कि अन्य महिलाओं के लिए भी स्व-रोजगार से जुड़ने के अवसर खुल रहे हैं। वर्तमान में महिला समूह द्वारा तैयार किए गए सीमेंट पोल को सबसे पहले ग्राम पंचायत के लिए सप्लाई करेंगी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.