GLIBS

सीएम भूपेश बघेल ने ठेठ अंदाज में चरवाहों के साथ लगाएं दोहे

ग्लिब्स टीम  | 21 Aug , 2019 05:16 PM
सीएम भूपेश बघेल ने ठेठ अंदाज में चरवाहों के साथ लगाएं दोहे

रायपुर। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के 75वें जन्म दिवस के अवसर पर विकासखंड नगरी के ग्राम दुगली में आयोजित ग्राम सुराज एवं वनाधिकार मड़ई में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अंगारमोती आदर्श गौठान का लोकार्पण किया। इसके बाद उन्होंने गांव के ईष्ट आराध्य सांहड़ा देव की पूजा-अर्चना कर चरवाहों से अनौपचारिक तौर पर रू-ब-रू हुए। मुख्यमंत्री का चरवाहों ने पारम्परिक खुमरी पहनाकर व ठेठवार लाठी भेंट कर स्वागत किया तथा उनकी अगुवाई में छत्तीसगढ़ी दोहे लगाए। इस बीच मुख्यमंत्री खुद को रोक नहीं पाए और ठेठ छत्तीसगढ़िया अंदाज में दोहे लगाए- ‘जइसे मालिक लिये दिये तइसे दिये असीस हो, अन्नधन तोर कोठा भरे जियो लाख बरीस हो....।‘ इसके बाद उन्होंने चरवाहों को इनाम (बिदागरी) के तौर पर 500 रूपए भी दिए।

मुख्यमंत्री ने दुगली-सिंगपुर मार्ग पर 3.06 एकड़ में बनाए गए इस गौठान की प्रशंसा की। यहां  बनाई गई सुविधाओं, चरवाहा विश्राम का अवलोकन किया। इस गौठान में 3 एचपी क्षमता वाले सोलर पम्प, पैरा संग्रहण के लिए मचान तथा पशुओं के पेयजल की व्यवस्था के लिए कोटना का निर्माण मनरेगा मद से 8.42 लाख रूपए तथा मध्यक्षेत्र विकास प्राधिकरण की मद से 16.09 लाख रूपए (24 लाख 51 हजार रूपए) की लागत से तैयार किया गया है। विदित हो कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी का 14 जुलाई 1985 को इस गांव में आगमन हुआ था, जिसके बाद से इसे राजीव ग्राम के नाम से जाना जाने वाले दुगली में सरकार की प्राथमिकता वाली सभी योजनाओं का बेहतर तरीके से क्रियान्वयन किया जा रहा है। 

शासन की महत्वाकांक्षी सुराजी ग्राम योजना के तहत नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी प्रोजेक्ट के अंतर्गत वनाच्छादित ग्राम दुगली में आदर्श गौठान बनाया गया है। गांव की आराध्य देवी अंगारमोती माता के नाम से स्थानीय परिवेश में स्थानीय संसाधनों से इस गौठान का निर्माण किया गया है। दुगली में 551 परिवार व 1301 आबादी निवास करती है। इनमें से 208 परिवारों के पास 620 मवेशी हैं। यहां 10 एकड़ में चारागाह निर्माण भी प्रस्तावित है। दुगली में गौठान बनाने के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण से सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव द्वारा अनुशंसा राशि स्वीकृत की गई है। 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.