GLIBS

आईएएस अधिकारियों के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, अधिकारियों में खौफ

राहुल चौबे  | 05 Feb , 2020 07:55 PM
आईएएस अधिकारियों के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, अधिकारियों में खौफ

रायपुर। निःशक्तजनों की संस्था के नाम पर हुए हजार करोड़ रूपए के घोटाले मामले में सीबीआई ने मध्यप्रदेश में 12 आईएएस अधिकारियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया है। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट की डबल बैंच के आदेश के बाद सीबीआई ने मामले में एफआईआर दर्ज किया है। राजधानी के कुशालपुर निवासी कुंदन सिंह ठाकुर ने बिलासपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। रिट में रिटायर्ड दो मुख्य सचिव और वर्तमान में कार्यरत आईएएस अधिकारियों पर राज्य स्रोत निशक्त जन संस्थान नामक संस्थान बनाकर सरकारी विभागों से हर महीने लाखों रुपए कर्मचारियों के नौकरी के भुगतान के नाम और अन्य कार्यों के लिए रुपए निकाले जाने का आरोप है। याचिकाकर्ता के अनुसार, रायपुर शहर के माना में चार हजार दिव्यांगों के उपचार के नाम पर घोटाले को अंजाम दिया । इलाज के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च किया गया लेकिन केवल कागजों पर  अचंभित करने वाली बात यह थी कि याचिकाकर्ता कुंदन सिंह ठाकुर को भी कर्मचारी बताकर उनके नाम से भी पैसे निकाले गए थे। जैसे ही ठाकुर को मामले की जानकारी हुई उसने समस्त दस्तावेज जमा कर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। इसके बाद हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने  जस्टीस मनींद्र श्रीवास्तव ने इस प्रकरण की सुनवाई के बाद माना था कि यह मामला साधारण नहीं है। इसे जनहित याचिका के रूप में स्वीकार किया गया और मामले को डबल बेंच में भेज दिया था। 31 जनवरी को कोर्ट ने सीबीआई को सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किये जाने का आदेश दिया था। इसके साथ ही घोटाले में शामिल अधिकारियों के खिलाफ अलग से विभागीय जांच किये जाने का आदेश भारत सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग को दिया था। 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.