GLIBS

केन्द्र सरकार से मिले राहत पैकेज का कैट ने किया स्वागत,अन्य क्षेत्रों के लिए जताई उम्मीद

रविशंकर शर्मा  | 26 Mar , 2020 09:54 PM
केन्द्र सरकार से मिले राहत पैकेज का कैट ने किया स्वागत,अन्य क्षेत्रों के लिए जताई उम्मीद

रायपुर। कॉनफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से गुरुवार को देश के गरीब और निचले तबके के और  संगठित क्षेत्र के श्रमिकों की तत्काल आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दिए गए सामाजिक सुरक्षा पैकेज का स्वागत किया है। कैट के पदाधिकारियों ने कहा कि वर्तमान विकट परिस्थितियों में जहां इस वर्ग को राहत की सबसे बड़ी जरूरत थी,ऐसे में सरकार ने राहत देकर इस वर्ग को सम्मानपूर्वक जीवन जीने का भरपूर प्रयास किया है। देश में सब कुछ बंद होने के कारण गरीब तबका तालाबंदी की अवधि के लिए चिंतित था। यह संतोष की बात है कि सरकार चरणबद्ध और प्राथमिकता के आधार पर काम कर रही है,जो संकट की इस घड़ी में सही दृष्टिकोण है। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने सहित प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मगेलाल मालू, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, प्रदेश महामंत्री जितेन्द्र दोशी, प्रदेश कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल और  प्रदेश प्रवक्ता राजकुमार राठी ने आशा व्यक्त की कि जल्द ही स्व-संगठित क्षेत्र जिसमें व्यापारियों, ट्रांसपोर्टरों, छोटे उद्योगों और स्वरोजगार करने वाले और राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा को भी शीघ्र इसी प्रकार का पैकेज दिए जाने की घोषणा की जाएगी।

कोरोना से देश को बचाने सरकार कर रही चरणबध्द तरीके से काम
पारवानी ने कहा कि कोरोना से देश को बचाने सरकार चरणबद्ध तरीके से काम कर रही है।  पहले देशव्यापी लॉक डाउन उसके बाद व्यापार और उद्योग के लिए  सभी वैधानिक और कर अनुपालन को स्थगित कर दिया गया। आज 1.70 लाख करोड़ का एक बड़ा पैकेज सरकार द्वारा दिया गया। गरीब और जरुरतमंद और दैनिक मजदूर जो इस समय में सबसे अधिक प्रभावित हैं उनकी चिंता सरकार ने की है।

ये सुझाव पहले ही कैट ने दिए
पारवानी ने कहा कि यह प्रत्यक्ष लाभ पैकेज इस धन को खुदरा बाजारों में लाया जाएगा क्योंकि लोग इस अतिरिक्त डिस्पोजेबल आय का उपयोग अधिक उत्पाद खरीदने के लिए करेंगे। इससे रिटेल बाजार में नकद तरलता आएगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले चरण में सरकार अब छोटे व्यापारियों और मध्यम वर्ग के मुद्दों पर ध्यान देगी क्योंकि वे भी इस स्थिति में काफी पीड़ित हैं। कैट ने पहले ही सरकार को जीएसटी भुगतानों के अवमूल्यन, व्यापारियों को आयकर और जीएसटी के तत्काल रिफंड,बैंक ईएमआई,बैंक ऋणों को आगे बढ़ाने, ब्याज लागत में कमी, कोरोना कैश लोन देने, व्यापारियों को बीमा देने जैसे सुझाव सरकार को दिए हैं।

 

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.