GLIBS

व्यापारियों एमएसएमई के सेवा क्षेत्र में शामिल होंगे, एग्रो एमएसएमई के नए सेक्टर पर विचार जारी : नितिन गडकरी

रविशंकर शर्मा  | 22 May , 2020 10:56 PM
व्यापारियों एमएसएमई के सेवा क्षेत्र में शामिल होंगे, एग्रो एमएसएमई के नए सेक्टर पर विचार जारी : नितिन गडकरी

रायपुर। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की 57वीं वीडियो कांफ्रेंस को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कोविड लॉक डाउन के बाद देश में व्यापार करने का तौर तरीका पूरी तरह से परिवर्तित हो  जाएगा। नवीन दृष्टि,उद्यमिता, ज्ञान, डिजिटल प्रौद्योगिकी देश में भविष्य के व्यापार के चार बुनियादी स्तम्भ होंगे और इसलिए भारत के व्यापारियों को पारंपरिक व्यापारिक प्रणाली के स्थान डिजिटल प्रणाली को बहुत तेजी से अपनाना होगा। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने व्यापारियों को एमएसएमई क्षेत्र के तहत शामिल करने पर इस मामले को सकारात्मक रूप से देखने आश्वासन दिया।  गडकरी ने व्यापारियों से कहा कि सरकार एग्रो एमएसएमई की एक नई श्रेणी बनाने की सोच रही है,जिसमें ग्राम पंचायत स्तर पर एमएसएमई उद्योग लगेंगे और ऐसे उद्योग संबंधित गांव के विकास में योगदान देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार के पास राजमार्गों के दोनों ओर स्मार्ट गांव, स्मार्ट सिटी, औद्योगिक क्लस्टर और अन्य सुविधाएं बनाने की योजना है। इस तरह की पहल से न केवल लॉजिस्टिक्स की लागत कम होगी, बल्कि बिजली और श्रम की लागत भी निम्न स्तर पर रहेगी और एमएसएमई प्रतिस्पर्धी कीमतों पर गुणवत्ता के सामान का उत्पादन कर सकते हैं।

व्यापारियों को सलाह देते हुए गडकरी ने कहा कि कोविड लॉक डाउन के बाद व्यापार को पुन: चालू करने के लिए व्यापारियों को अपने व्यवहार परिवर्तन की बहुत आवश्यकता है। सकारात्मकता और आत्मविश्वास के तत्वों को व्यापारियों और उद्यमियों के बीच विकसित करने की आवश्यकता है, लोगों की हताशा समाप्त होनी चाहिए और एक सामूहिक और सहयोगात्मक दृष्टिकोण के साथ हम निश्चित रूप से कोरोना की लड़ाई जीतेंगे। उन्होंने कहा है कि सरकार की ओर से व्यापरियों को सहायता अवश्य मिलनी चाहिए। देश की अर्थव्यवस्था के लिए यह अधिक महत्वपूर्ण है कि व्यावसायिक समुदाय बेहतर व्यावसायिक संभावनाओं की खोज करते रहें और सर्वश्रेष्ठ व्यापार करने के लिए उन्नत तकनीक से युक्त हों। व्यापारियों के अर्थव्यवस्था में योगदान की सराहना करते हुए उन्होंने विशेष रूप से लॉक डाउन अवधि के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बनाए रखने के बारे में व्यापारी समुदाय और कैट  के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह राष्ट्र के प्रति असीम भक्ति है। कोरोना की वर्तमान स्थिति के बारे में बात करते हुए गडकरी ने कहा कि देश अपनी सबसे अधिक विकट समस्या का सामना कर रहा हैै। कोरोना ने अर्थव्यवस्था को काफी हद तक बर्बाद कर दिया है। वर्तमान स्थिति से उबरने के लिए बाजार में अर्थ की बेहतर तरलता का प्रवाह बहुत आवश्यक है। किसानों की क्रय शक्ति बढ़ाने की जरूरत है और कृषि क्षेत्र में नई तकनीक को अपनाना समय की जरूरत है। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर परवानी, कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोषी, कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल और प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि देश के सभी राज्यों के 100 से अधिक प्रमुख व्यापारी नेता वीडियो कांफ्रेंस में शामिल थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.