GLIBS

देश के सबसे बड़े टूरिज्म फेयर में बस्तर बना आकर्षण का केन्द्र, मिला द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन का अवार्ड

राहुल चौबे  | 13 Sep , 2021 11:48 AM
देश के सबसे बड़े टूरिज्म फेयर में बस्तर बना आकर्षण का केन्द्र, मिला द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन का अवार्ड

रायपुर। देश के सबसे बड़े टूरिज्म ट्रेड फेयर में बस्तर को ‘द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन’ अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह अवार्ड सोमवार को कोलकाता में आयोजित टूरिज्म फेयर में बस्तर के सहायक कलेक्टर सुरूचि सिंह के नेतृत्व में पर्यटन प्रतिनिधिमंडल ने लिया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने पर्यटन विभाग के सभी अधिकारियों और जिला प्रशासन बस्तर को इसके लिए बधाई और शुभकामनाएं दी है।
कोलकाता के नेताजी स्टेडियम में इस महीने की 10 से 13 सितंबर तक आयोजित टीटीएफ मेले में विश्वस्तरीय पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित हो रहा बस्तर विशेष आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। इस मेले में लगाए गए स्टॉल में बस्तर के पर्यटन, संस्कृति एवं कलाकृतियों का प्रदर्शित किया गया है। मेले में देश-दुनिया से कलकत्ता पहुंचे टूर प्लानर और ट्रेवल एजेंट्स को ‘द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन’ पर प्रेजेंटेशन भी दिया गया। ट्रेवल प्लानरों और एजेंटों को बस्तर आने का न्यौता भी दिया गया। इस मेले में आमचो बस्तर पर्यटन व स्थानीय कला संस्कृति को प्रदर्शित करने के लिए बस्तर जिला प्रशासन से आमचो बस्तर पर्यटन समिति से चौदह सदस्यीय टीम शामिल हुए। इन सदस्यों को प्रमुख पर्यटन स्थलों चित्रकोट, तीर्था, बीजाकासा, कोसरटेड़ा, मादरकोंटा, महेन्द्रीघूमर, तामड़ाघूमर, मिचनार, तीरथगढ़, टोपर, माँझीपाल समेत अन्य पर्यटन स्थलों से चुना गया था।
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर देश-विदेश के सैलानियों को आकर्षित करने और बस्तर की कला संस्कृति को पर्यटन नक्शे पर पर उभारने के लिए विशेष कार्ययोजना तैयार की गई है। बस्तर अंचल के सभी प्रमुख पर्यटन स्थलों को सर्वसुविधायुक्त बनाया जा रहा है। बस्तर में पर्यटन रोजगार ट्रेनिंग, पर्यटक ट्रेकिंग, रैपलिंग, पैरामोटर, कैंपिंग, बस्तरिया व्यंजनों की उपलब्धता, टूरिस्ट गाइड सुविधा, एसटीएफ कैम्प, कोसारटेंडा बांध, इको रिसोर्ट समेत अनेक पर्यटक स्थलों का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.