GLIBS

राज्य में महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं तो भाजपा नेत्रियों को खुश होना चाहिए  : वंदना राजपूत 

रविशंकर शर्मा  | 18 Sep , 2020 10:29 PM
राज्य में महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं तो भाजपा नेत्रियों को खुश होना चाहिए  : वंदना राजपूत 

रायपुर। कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता वंदना राजपूत ने अपने वार पर हुए पलटवार  पर फिर से करारा जवाब दिया है। वंदना ने कहा है कि, भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष पूजा विधानी ने वंदना के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया तो व्यक्त कर दी ,पर वे ये भूल गईं कि, आत्मचिंतन और आत्म मंथन के परिणामस्वरूप ही आज छत्तीसगढ़ जैसे कृषि प्रधान प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। मजदूरों, किसानों, पशुपालकों के जीवन मे क्रांति,आज छत्तीसगढ़ में गांव से लेकर शहर तक अर्थव्यवस्था व्यवस्थित है। कोरोना संकट में भी शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू होना,कोरोना संकट के कारण आई कठिनाइयों के बावजूद उस प्रक्रिया को भी पूरा करने की  दिशा में काम करना बहुत ही सराहनीय है। कोरोना संकट में भी मध्याह्न भोजन के सफलतापूर्वक संचालन होने से कुछ  लोगों के पेट में दर्द हो रहा है। राज्य में महिलाएं  आत्मनिर्भर बन रही हैं तो, भाजपा नेत्रियों को खुश होना चाहिए कि15 सालों बाद ऐसा समय देखने को मिला है। 
वंदना राजपूत ने कहा है कि, भूपेश बघेल की  सरकार जमीन स्तर पर कार्य कर रही है, तो भाजपाइयों को अपच हो रहा है।  यदि बात कोरोना महामारी की है तो इसका श्रेय सर्वप्रथम केंद्र की मोदी सरकार को जाता है। जिन्होंने नमस्ते ट्रम्प जैसे बड़े उत्सव का आयोजन करके न केवल इस देश को अपितु देश की अर्थव्यवस्था को, देश की प्रगति को, देश के प्रत्येक नागरिक के जीवन को असमय ही काल के गाल में समा जाने के लिए असहाय छोड़ दिया। भारत की भोली भाली जनता से ताली और थाली बजवा कर नौटंकी के नए-नए कारनामे भी करवाए गए। जलसा, उत्सव, मन की बात, मोर के साथ समय व्यतीत करने की सीख, आत्मनिर्भर बनने की बात करना, महंगा कपड़े पहनने का शौक ये पूरा देश जान रहा है। हमारे देश के मुखिया को  यह भी नहीं पता है कि, कोविड काल में  कितने प्रवासी मजदूरों की जान चली गई । बेपरवाह केंद्र सरकार को इसकी जानकारी भी नहीं। नोटबंदी में समय मांगा और अर्थव्यवस्था तबाह कर दिए। कोरोना में समय मांगा और जिंदगियां तबाह कर दी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.