GLIBS

अमरजीत भगत का एक वर्ष का कार्यकाल पूरा, कहा- हर योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए जमीनी स्तर पर कार्य किया

रविशंकर शर्मा  | 29 Jun , 2020 10:51 PM
अमरजीत भगत का एक वर्ष का कार्यकाल पूरा, कहा- हर योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए जमीनी स्तर पर कार्य किया

रायपुर। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने सोमवार को मंत्री के रूप में अपने एक वर्ष का कार्यकाल पूरा होने पर मीडिया से चर्चा की। 29 जून 2019 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार में अमरजीत भगत ने 13वें मंत्री के रूप में शपथ ली थी। उन्हें खाद्य, नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण, संस्कृति, योजना व सांख्यिकी विभाग मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया था। इस एक वर्ष में अपने दायित्वों का निर्वाह करते हुए छत्तीसगढ़ सरकार के अनेक निर्णयों को क्रियान्वित करने में सक्रिय योगदान दिया। उन्होंने कहा कि ,उनका संकल्प है कि छत्तीसगढ़ में कोई भूखा न सोए, जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने लगातार कार्य किया। लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि नहीं मिल रहा, देखने के लिए खुद उनके बीच गए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉक डाउन के दौरान खाद्य व नागरिक आपूर्ति विभाग की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण रही। इस दौरान 57 लाख अन्त्योदय, प्राथमिकता, एकल निराश्रित और नि:शक्तजन राशनकार्डधारियों को 3 माह अप्रैल, मई और जून का चावल नि:शुल्क वितरण किया गया। इन राशनकार्डधारियों को माह अप्रैल में 2 माह अप्रैल और मई का खाद्यान्न शक्कर, नमक एकमुश्त वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त उपरोक्त राशनकार्डधारियों को अप्रैल से जून 2020 तक नि:शुल्क 5 किलो प्रति सदस्य अतिरिक्त खाद्यान्न प्रदान किया गया।

मंत्री भगत ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के क्रियान्वयन में छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में से एक रहा। इस योजना के तहत अप्रैल व मई माह में शत-प्रतिशत और जून में 98 प्रतिशत खाद्यान्न का वितरण गरीब व जरुरतमंदों को किया गया। राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ के सभी राशनकार्डधारी परिवारों को 35 किलो हर महीने चावल देने का वचन पूरा किया है। राज्य के सभी निवासियों को खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर 2 अक्टूबर 2019 से सार्वभौम पीडीएस का शुभारंभ किया गया। सार्वभौम पीडीएस के अंतर्गत सामान्य परिवारों (आयकरदाता एवं गैर आयकरदाता) को भी खाद्यान्न प्रदाय किया जा रहा है। ऐसे तमाम उपलब्धियों पर मंत्री अमरजीत भगत ने प्रकाश डाला। मंत्री भगत ने भविष्य की कार्ययोजना के बारे में बताया कि राज्य में वाइंट आफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण पीडीएस के जरिए राशन सामग्री के वितरण में पारदर्शिता और  हितग्राही को अस्थायी प्रवास के दौरान राशन सामग्री प्राप्त करने की सुविधा देने के लिए प्वाइंट आफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण की व्यवस्था की जा रही है। भंडारण क्षमता का विकास और उचित मूल्य दुकानों का निर्माण और विस्तार किया जा रहा है। राज्य के अनुसूचित विकासखंडों और माडा क्षेत्र के 1500 भवनहीन उचित मूल्य दुकानों में नवीन दुकान सह गोदाम निर्माण और शहरी क्षेत्र के 200 व ग्रामीण क्षेत्र के 100 उचित मूल्य दुकानों में निर्मित दुकान सह गोदाम का नवीनीकरण और विस्तारीकरण करने के लिए कार्ययोजना बनाई गई है।

मंत्री भगत ने संस्कृति विभाग के उपलब्धियों के बारे में बताया कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव देश का सबसे बड़ा आदिवासी सांस्कृतिक समागम का आयोजन 27 से 29 दिसंबर 2019 तक रायपुर में किया गया। इसमें देश के 24 राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश के आदिवासियों की प्रतिभागिता रहीं। साथ ही बेलारूस, थाईलैण्ड, युगाण्डा, मालदीव, श्रीलंका, बांग्लादेश के नृत्य समूहों का भी समावेश रहा। जीवन संस्कार, अनुष्ठान और मेले, कृषि चक्र तथा अन्य पारंपरिक नृत्य आदि चार श्रेणी में प्रतियोगिताएं आयोजित कर 16 पुरस्कार राशि रुपए 41 लाख प्रदान किया गया। आयोजन में लगभग 2,000 कलाकारों ने 125 से भी अधिक पारंपरिक जनजातीय नृत्यों का प्रदर्शन किया गया। इस आयोजन को राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली और राष्ट्रीय एकता और सदभावना की दिशा में जागृति उत्पन्न हुई। उन्होंने कहा कि साईंस कॉलेज मैदान, रायपुर में पांच दिवसीय राज्योत्सव का आयोजन हुआ। राज्योत्सव पर छत्तीसगढ़ के पारंपरिक लोक जनजातीय नृत्य, संगीत, गीत और वाद्य यंत्रों पर प्रस्तुतियां आयोजित की गई। इस अवसर पर राज्य की विभिन्न विभूतियों के नाम पर स्थापित सम्मानों के अन्तर्गत प्रतिभाओं को राज्य सम्मान से अलंकृत किया गया।

 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.