GLIBS

कोरोना से ठीक होने के बाद, बीमार हुए मरीजों का उपचार होगा, पोस्ट कोविड लक्षण वाले मरीजों के लिए नई व्यवस्था

राहुल चौबे  | 21 Nov , 2020 10:56 AM
कोरोना से ठीक होने के बाद, बीमार हुए मरीजों का उपचार होगा, पोस्ट कोविड लक्षण वाले मरीजों के लिए नई व्यवस्था

रायपुर/जगदलपुर। जगदलपुर मेडिकल कॉलेज के चेस्ट एंड टीबी डिपार्टमेंट में पोस्ट-कोविड ओपीडी बनाया जा रहा है, जहाँ कोविड से ठीक होने के बाद भी परेशानी महसूस कर रहे मरीजों  का उपचार होगा। कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद भी कुछ लोग बीमार पड़ रहे हैं। जिसे पोस्ट कोविड सिम्पटम भी कहा जाता है। मेडिकल कॉलेज जगदलपुर के कोविड प्रभारी डॉ नवीन दुल्हानी ने बताया, कोविड-19 से ठीक होने के बाद कई मरीज ऐसे हैं जिन्हें थकान, साँस लेने में परेशानी, चक्कर आना, बेहोशी, हल्का बुख़ार, जोड़ों में दर्द उदासी और मानसिक तनाव जैसे लक्षण सामने आ रहे हैं। कई लोगों में स्वाद का ना आना और गले में खराश की दिक्कत भी बनी हुई है। जिस मरीज़ में कोविड का संक्रमण जितना अधिक होता है, उतने ज़्यादा लक्षण उसमें ठीक होने के बाद देखने को मिलते हैं। ऐसे मरीजों के उपचार के लिए मेकॉज में पोस्ट कोविड ओपीडी प्रारम्भ करने की तैयारी पूरी की जा चुकी है जहाँ एमडी मेडिसिन, चेस्ट एंड टीबी विशेषज्ञ, फिजियोथेरेपिस्ट, व मानसिक स्वास्थ्य के लिए साइकॉलजिस्ट उपस्थित रहेंगे। ये ओपीडी केवल उन मरीजों के लिए बनाई जा रही है, जो कोरोना संक्रमण को मात देकर एक बार ठीक हो चुके हैं लेकिन पोस्ट कोविड प्रभाव के कारण उनमे पुनः कोई लक्षण सामने आ रहे हैं।
कोरोना की बीमारी ठीक होने पर भी ऐसे लक्षण इसलिए दिखाई पड़ते हैं क्योंकि वायरस से लड़ने के लिए शरीर में बने एंटीजन इम्यून सिस्टम में इस तरह के बदलाव कर देते हैं, जिससे इम्यून सिस्टम अति प्रतिक्रिया करने लगता है। इसी कारण बुख़ार, बदन दर्द और अन्य समस्याएँ होने लगती हैं। कोरोना से बचाव के लिए कुछ नियमों का पालन जरूरी है, खासतौर पर ऐसे व्यक्ति जो हाल ही में इस संक्रमण से उबरे हो क्योंकि इस स्थिति में शरीर थोड़ा कमजोर हो चुका होता है। इसलिए प्रतिदिन कम समय के लिए ही सही लेकिन एक्सरसाइज करते रहें। इसे एक बार रुटीन में शामिल कर लें तो आप शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहेंगे। स्वस्थ खाना खाएं, ताकि सेहत में तेजी से सुधार आए, संक्रमण के दौरान कई बार वजन कम होने की स्थिति उत्पन्न हुई है इसलिए इपनी डाइट में प्रोटीन युक्त सब्जियां शामिल करें या डॉक्टर द्वारा बताई हुई डाइट का खाना खाएं। कोरोना रिर्पोट अगर निगेटिव आ गई है तो ऐसे में अपने शरीर का ध्यान रखते हुए धीरे-धीरे आम जिंदगी की तरफ बढ़े। सबसे पहले अपने इम्यून सिस्टम पर काम करें। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और अपने आस पास लोगों को कोरोना के प्रति जागरुक करें। अगर थकान, साँस लेने में परेशानी, चक्कर आना, बेहोशी, हल्का बुख़ार, जोड़ों में दर्द उदासी और मानसिक तनाव जैसे लक्षण सामने आ रहे हैं तो इन बातों के नजरअंदाज ना करें, तुंरत डॉक्टर से संपर्क करें।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.