GLIBS

मुख्यमंत्री के सलाहकार ने विभिन्न गौठानों का किया निरीक्षण,आजीविका ठौर की स्थापना पर जोर

रविशंकर शर्मा  | 26 Oct , 2020 10:27 PM
मुख्यमंत्री के सलाहकार ने विभिन्न गौठानों का किया निरीक्षण,आजीविका ठौर की स्थापना पर जोर

रायपुर। मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा सोमवार को बिलासपुर जिले के कोटा विकासखंड के विभिन्न गौठानों में पहुंचे। उन्होंने गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन का जायजा लिया। गौठानों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने और आजीविका ठौर की स्थापना के संबंध में विस्तार से चर्चा की। इस दौरान उनके साथ कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर भी उपस्थित थे। प्रदीप शर्मा अनुसूचित जनजाति बाहुल्य ग्राम पंचायत मोहदा और कंचनपुर के गौठान में पहुंचे। ग्राम मोहदा के गौठान में गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन को देखा। शर्मा ने स्व सहायता समूह की महिलाओं और चरवाहों से चर्चा की। गौठानों में ग्रामीणों की ओर से लाए जाने वाले गोबर को सुरक्षित तरीके से रखने के उपायों पर उन्होंने जोर दिया। वनांचल के इस गौठान में लघु वनोपज लाख, हर्रा, बहेरा और बीज प्रोसेसिंग की संभावनाओं पर भी वन मंडलाधिकारी से चर्चा की। उन्होंने कहा कि बायो डायवर्सिटी के लिये गौठानों में प्रयास किया जाना चाहिए।

 

 

ग्राम कंचनपुर के गौठान में गोबर से वर्मी खाद निर्माण को देखा और उसकी गुणवत्ता को परखा। शर्मा ने गौठान में बनाये गए चारागाह और बाड़ी का अवलोकन किया। महिला स्व-सहायता समूहों से चर्चा की और उनकी समस्याओं की जानकारी ली। महिलाओं से उन्होंने कहा कि वे अपने घरों में भी बाड़ी लगायें। सब्जी उत्पादन के लिये गौठान के वर्मी खाद का ही उपयोग करें ताकि ग्रामीणों को भी ऐसा करने की प्रेरणा मिले। चरवाहों से बातचीत के दौरान पता चला कि प्रत्येक चरवाहे को गौठान से प्रतिदिन लगभग 30 किलो गोबर मिल जाता है। यहां पर एक चरवाहे की औसत मासिक आय 18 हजार रुपए हो रही है। शर्मा ने चरवाहों से कहा कि गायों की मन लगाकर सेवा करें क्योंकि इन्हीं से उनको आजीविका मिल रही है। इस दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह ठाकुर, डीएफओ कुमार निशांत, जिला पंचायत के एपीओ रिमन सिंह सहित जनपद सीईओ, उद्यानिकी, कृषि, पशुपालन विभाग के अधिकारी भी साथ थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.