GLIBS

कंटेनमेंट जोन के 100 घरों का कराए एक्टिव सर्वे और कान्टेक्ट ट्रेसिंग : डॉ.प्रियंका शुक्ला

उदय मिश्रा  | 24 Jun , 2020 08:14 PM
कंटेनमेंट जोन के 100 घरों का कराए एक्टिव सर्वे और कान्टेक्ट ट्रेसिंग : डॉ.प्रियंका शुक्ला

राजनांदगांव। मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डॉ.प्रियंका शुक्ला ने बुधवार को राजनांदगांव जिले में कोविड-19 के अंतर्गत कोरोना के संक्रमण से बचाव के उपायों के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही गतिविधियों की समीक्षा की। डॉ.शुक्ला ने न्यू सर्किट हाउस राजनांदगांव में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक तथा स्वास्थ्य विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर पूरी गतिविधि की गहन समीक्षा की।
समीक्षा बैठक में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक गिरीश कुर्रे  जिले मे कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव, रोकथाम तथा कोरोना पाजिटिव व्यक्तियों के उपचार के संबंध में विस्तार से प्रस्तुतिकरण दिया गया। डॉ. प्रियंका शुक्ला ने जिले में कोविड-19 के तहत महतारी सदन क्वारेंटाइन सेटरों के माध्यम से गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य एवं प्रसव के संबंध में किए गए कार्यों की प्रशंसा की। डॉ.प्रियंका शुक्ला ने जिले में कोविड-19 के तहत चलाये जा रहे आनलाइन कम्यूनिटी सर्वे कार्यक्रम कोरोना दर्पण अभियान की भी तारीफ की और कहा कि यह प्रदेश में अपने तरह का किसी भी जिले में चलाया जा रहा पहला अभियान है। इससे कोरोना संक्रमण के लक्षण वाले लोगों की जानकारी आसानी से इकट्ठा करने में मदद मिलेगी।डॉ. शुक्ला ने जिले में प्रभावित इलाकों में सेम्पल कलेक्शन को भी पर्याप्त संख्या मे बढाये जाने तथा स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, पंचायत, नगर निगम, शिक्षा विभाग के काम करने वाले फ्रंट लाइन वर्कर्स को दवा खिलाकर शत प्रतिशत प्रोफाईलेक्सीस करने निर्देश दिए। उन्होंने कंटेनमेंट जोन के आसपास के सभी प्राईवेट अस्पतालों, क्लीनिक और झोलाछाप डॉक्टरों के भी आईएलआई सेम्पल लेने के निर्देश दिए। उन्होंने विशेषकर शहर के कंटेनमेंट जोन लखोली क्षेत्र में 100 घरों में एक्टिव सर्वे और कान्टेक्ट ट्रेसिंग करने के लिये कहा।

डॉ. प्रियंका शुक्ला ने कंटेन्मेंट जोन मेें सेम्पल साईज यथा संभव ज्यादा से ज्यादा रखने एवं न्यूनतम एक पॉजिटिव मरीज के पीछे कम से कम 10 प्रायमरी कॉन्टेक्ट  लोगों का का सेम्पल लेने के निर्देश दिए। उन्होंने ज्यादा से ज्यादा लोगों को इन्स्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन में रखने के सुझाव दिए। आवश्यकतानुसार आईसोलेशन भी किये जाने तथा कंटेनमेंट जोन में बेरी केटिंग और पुलिस सुरक्षा से शत प्रतिशत आवागमन प्रतिबंधित करने के निर्देश दिए। जिले में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखकर आइसोलेशन व उपचार के लिये एक व्यवस्थित कोविड केयर सेंटर बनाने के भी निर्देश दिए।समीक्षा बैठक में राज्य स्तर से आए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के राज्य कार्यक्रम प्रबंधक उर्या नाग एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, डीएमओ डॉ. कुमरे,प्रणय शुक्ला, डॉ. सोनिका त्रिपाठी, शहरी कार्यक्रम प्रबंधक अनामिका विश्वास एवं अन्य सभी जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.