GLIBS

कड़ी मेहनत को जीवनशैली का हिस्सा बनाकर लक्ष्य हासिल करें : कलेक्टर

संध्या सिंह  | 06 Jul , 2020 03:33 PM
कड़ी मेहनत को जीवनशैली का हिस्सा बनाकर लक्ष्य हासिल करें : कलेक्टर

दुर्ग। प्रयास आवासीय विद्यालय के कक्षा 10वीं में उत्कृष्ट अंक अर्जित करने वाले विद्यार्थियों को प्रतीक चिन्ह एवं प्रस्शति पत्र भेंट कर कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने सम्मानित किया है। सम्मान समारोह के अवसर पर उन्होंने विद्यार्थियों को आशीर्वचन देते हुए कहा कि आज जो कामयाबी और सफलता मिली है, उसे हमेशा कायम रखना है। जीवन में हमेशा मेहनत को बरकरार रखना। आज जो सफलता मिली है। इसे यही तक सीमित मत रखना। उन्होंने आगे कहा कि एक बार अच्छी मुकाम या सफलता मिल जाने पर अक्सर स्वभाव में यह भाव घर कर जाता है कि वह हर कुछ कर सकता है। इसके कारण सफलता आगे बढ़ नहीं पाता है। मेहनत को जीवनशैली का हिस्सा बनाकर अपने लक्ष्य को अर्जित करने प्रेरित किया। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की प्रेरितकारी वचन जहाँ बुद्धि काम न आये वहां कड़ी मेहनत कर लक्ष्य पाने को आतुर रहने वाली कथन को आत्मसात कर जीवन की हर मुकाम हासिल करने की सीख दिया।
इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. भुरे की धर्मपत्नी डाॅ. रश्मि भुरे ने विद्यार्थियों को प्रेरितकारी उदबोधन देते हुए कहा कि मेहनत और सफलता को निरन्तर कायम रखना ही जीवन को सफल बनाता है।

मेहनत का रुक जाना सफलता के प्रयासों पर विराम लग जाता है। इसलिए आज जो सफलता मिली है इसे आगे भी हमेशा बनाये रखना जिससे कामयाबी मिलती रहे। इस अवसर पर कलेक्टर दम्पत्ति ने पौधारोपण किया। संज्ञान हो कि प्रयास विद्यालय एक शासन द्वारा संचालित संस्था है। जहां अध्ययनरत छात्र-छात्राओं की पढ़ाई के साथ-साथ रहने व खाने की व्यवस्था सरकार द्वारा मुहैया कराई जाती है। दुर्ग जिले में मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना अंतर्गत प्रयास आवासीय विद्यालय संचालित है। इस विद्यालय का प्रमुख उद्देश्य राज्य के सुदूर नक्सल प्रभावित जिलों में रहने वाले प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को निशुल्क शिक्षण एवं आवासीय सुविधायें उपलब्ध कराकर भविष्य निर्माण के लिए एक मंच उपलब्ध कराना है। इस वर्ष प्रयास एवम विद्यार्थियों के सम्मिलित प्रयास से कक्षा 10 वीं में अध्ययनरत 25 छात्र-छात्राओं ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये है, जिसमें कृतिका त्रिपाठी ने 95.80 अंक अर्जित किया है। संस्था में अध्ययनरत सभी विद्यार्थी प्रथम श्रेणी में सफल हुए है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.