GLIBS

आठ-आठ लाख के दो नक्सली समेत 6 नक्सलियों ने किया समर्पण, दो महिला नक्सली भी शामिल

कुशल चोपडा  | 11 Sep , 2019 03:56 PM
आठ-आठ लाख के दो नक्सली समेत 6 नक्सलियों ने किया समर्पण, दो महिला नक्सली भी शामिल

बीजापुर। जिला मुख्यालय बीजापुर में बुधवार को पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है।19 लाख के इनामी छ नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है, जिसमें एक प्लाटून कमांडर व एक सेक्शन कमांडर है। पुलिस के द्वारा चलाये जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान से प्रभावित होकर व छत्तीसगढ़ शासन की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर बीजापुर पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल व सीआरपीएफ के 170 बटालियन कमांडर आलोक भट्टाचार्य के समक्ष किया नक्सलियों ने आत्म समर्पण किया है। बीजापुर पुलिस अधीक्षक ने प्रेसवार्ता में बताया कि पुलिस को आज एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। नक्सल विरोधी अभियान में हम बड़ी सफलता हाथ लगी है। जो 2 महिला सहित 6नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किए है। उसमें से एक नक्सल दम्पति दिलीप वड्डे व उसकी पत्नी सनकी वड्डे ने भी आत्मसमर्पण किया है। नक्सल दम्पति ने बताया कि हम दोनों ने शादी कर ली थी। लेकिन वहां पर हमारी नसबंदी करा दी गई थी, जिससे हम त्रस्त हो गए थे, हम भी आम जन जीवन जीना चाहते थे इसलिए हमने आत्मसमर्पण का रास्ता अपनाया।

आज आत्मसमर्पण किए नक्सलियों में दिलीप वड्डे, ग्राम एडापल्ली, कंपनी प्लाटून कमांडर भी था, जिस पर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आठ लाख का इनाम था। मड़कम बंडी ग्राम दारेली कम्पनी नम्बर एक का बी डिप्टी सेक्शन कमांडर था, जिस पर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आठ लाख का इनाम घोषित था। महिला नक्सली सनकी वड्डे ग्राम एडापल्ली, कंपनी नम्बर एक का प्लाटून दो की सदस्या थी,जिसपर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा दो लाख का इनाम घोषित था। दूसरी महिला नक्सली बुधरी उसेण्डी ग्राम कोरावाया एलओएस सदस्य, जिस पर सरकार द्वारा एक लाख का इनाम घोषित था। महेश वासम ग्राम काण्डलापर्टी सीएनएम सदस्य, विनोद मेटा ग्राम काण्डलापर्टी सीएनएम सदस्य ने भी किया आत्मसमर्पण किया। आत्मसमर्पित नक्सलियों ने बताया कि हम नक्सल जिंदगी से त्रस्त हो गए थे। हर वक्त पुलिस के डर से न तो हम जी पा रहे थे न ही सही तरीके मर पा रहे थे। नक्सल दम्पति ने आज पुलिस के समक्ष समपर्ण किया है, उन्होंने बताया कि नक्सलियों ने हमारी नसबंदी करा दी थी, जिससे हम नाराज थे। हम भी आम जिंदगी जीना चाहते थे इसलिए आत्मसमर्पण का रास्ता अपनाया व आज बीजापुर पुलिस के समक्ष हम सभी ने आत्मसमर्पण किए है। आत्मसमर्पण के बाद प्रोत्साहन राशि दस-दस हजार रुपये तत्काल सभी आत्मसमर्पित नक्सलियों को दी गई।  पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शासन की घोषित पुनर्वास नीति के तहत सभी लाभ आत्मसमर्पित नक्सलियों को दिया जाएगा।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.