GLIBS

विशेष विमान से रायपुर लौटे 170 श्रमिक, अमरजीत भगत ने माना आभार

रविशंकर शर्मा  | 04 Jun , 2020 01:04 PM
विशेष विमान से रायपुर लौटे 170 श्रमिक, अमरजीत भगत ने माना आभार

रायपुर। लॉक डाउन के कारण कर्नाटक में फंसे 170 प्रवासी मजदूरों की छत्तीसगढ़ वापसी गुरुवार को विशेष विमान से हुई है। रोटरी क्लब के सहयोग से बैंगलुरू से विशेष विमान ने इन मजदूरों को लेकर गुरुवार को पहुंचा। प्रदेश के खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने सहयोग के लिए आभार माना है। दरअसल लॉक डाउन के दौरान जरुरतमंदों के लिए विशेष हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया था। कर्नाटक में फंसे हुए छत्तीसगढ़ के श्रमिकों में से अनेक मजदूरों ने कॉल करके मदद की गुहार लगाई थी। निरंतर प्रयास करते हुए अनेक प्रवासी श्रमिकों को रेलमार्ग से वापस लाने की व्यवस्था की गई थी। फिर भी अनेक श्रमिक कर्नाटक के विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए थे। खाद्यमंत्री ने बताया कि इन मजदूरों को वापस लाने की कोशिशें लगातार चल रही थीं। कर्नाटक के सुदूर भागों में होने के कारण सबसे संपर्क करने व उनकी मदद करने में अड़चनें आ रही थीं। इसी दौरान खाद्यमंत्री का संपर्क कर्नाटक के कोलार जिले के रोटरी क्लब के अध्यक्ष सोमशेखर गौड़ा और रोटरी क्लब के ही सदस्य अजय बहेल से हुआ। 

 

श्रमिकों के विषय में उनसे चर्चा होने पर उन्होंने आगे बढ़कर मदद की पेशकश की। रोटरी क्लब के अध्यक्ष सोमशेखर गौड़ा और अजय बहेल ने सक्रियता दिखाते हुए कर्नाटक के अलग-अलग हिस्सों में फंसे श्रमिकों को कैंपेगौड़ा एयरपोर्ट, बैंगलुरू तक उन्हें बस से लाने की व्यवस्था की। इसके बाद उन्हें विमान से छत्तीसगढ़ लाया गया। इस सहयोग के लिए खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने पत्र लिखकर सोमशेखर गौड़ा और अजय बहेल के प्रति आभार व्यक्त किया। साथ ही उन्होंने उन सभी को धन्यवाद दिया, जिन्होंने श्रमिकों की घर वापसी के लिए योगदान दिया है। इन श्रमिकों को बेंगलुरू एयरपोर्ट में लाने से पहले 14 दिन के क्वारंटाइन में रखा गया था। छत्तीसगढ़ आगमन के बाद इनकी स्वास्थ्य जांच की गई। छत्तीसगढ़ में घर जाने से पहले इन्हें क्वारंटाइन में रखा जाएगा। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि हेल्पलाइन नंबर 18001233714 अब भी जारी है। यदि देश के किसी भी भाग में फंसे मजदूर या अन्य नागरिकों को जरूरत हो तो इस नंबर पर कॉल कर सकते हैं। यदि कोई भी जरुरतमंदों की किसी भी तरह की मदद करना चाहते हैं तो उनका स्वागत है। पत्र देखने के लिए यहाँ क्लिक करें...

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.