GLIBS

VIDEO: पुलिस परिवार को कोरोना से बचाने सुग्ग्घर योजना का एसपी पटेल ने किया शुभारंभ

फारूक मेमन  | 01 Apr , 2020 10:30 PM
VIDEO: पुलिस परिवार को कोरोना से बचाने सुग्ग्घर योजना का एसपी पटेल ने किया शुभारंभ

गरियाबंद। कोरोना वायरस के डर से जहां एक ओर पूरा भारत घरों में कैद हो गया है वही अपने कर्तव्य को निभाने पुलिस जवान जोखिम भरी ड्यूटी कर रहे हैं क्योंकि रोज सैकड़ों लोगों से मिल रहे हैं इसलिए इन्हें भी करोना संक्रमित होने का खतरा बना हुआ है दूसरी ओर एसपी ने जब देखा कि पुलिस परिवार की महिलाएं सामान लेने 1 किलोमीटर दूर गरियाबंद के दुकानों तक पहुंच रही हैं तो एसपी भोजराम पटेल ने पुलिस परिवारों को राहत पहुंचाने के लिए सुग्गघर योजना का निर्माण मात्र 1 दिन में किया। इसके तहत अब पुलिस लाइन के दो अलग-अलग कालोनियों में मौजूद 200 से अधिक परिवारों में से किसी को भी सामान खरीदने दुकानों तक जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दो वाहनों में चार चार जवानों की ड्यूटी पुलिस परिवारों तक राशन पहुंचाने के लिए लगाई गई है। यह जवान सुबह सामान की पर्ची लेकर जाएंगे और 2 घंटे के भीतर सामान लाकर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए एक एक परिवार को अलग-अलग बुलाकर उनके द्वारा मंगाया गए सामान लाकर देंगे।

गरियाबंद के पुलिस अधीक्षक भोज राम पटेल तथा एडिशनल एसपी सुखनंदन राठौर ने बुधवार को इस योजना का शुभारंभ न्यू पुलिस लाइन कालोनी में किया। अधिकारियों ने सोशल डिस्टेंस के नियमों का पालन करते हुए कालोनी के सभी रहवासियों को बताया कि आज शाम से ही इस योजना का पालन शुरू हो जाएगा। इसमें सुबह आपको सामान की पर्ची देना है और दो घंटे बाद सामान आपके घर के सामने आपको मिलेगा। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक भोज राम पटेल ने 400 से अधिक आरक्षक तथा उनके परिवारों कोरोना वायरस के प्रति जागरुक करते हुए कहा कि ऐसे समय में जब पूरा देश घरों में कैद है पुलिस जवान अपना कर्तव्य निभा रहा है। इसलिए कई प्रकार की सावधानियां आप लोगों को बरतनी होगी। हमारे इन जवानो के प्रयासों से ही कोरोना वायरस से संक्रमित एक भी व्यक्ति गरियाबंद जिले में नहीं मिला है। क्योंकि हमने बाहर के लोगों को यहां प्रवेश प्रतिबंधित कर रखा है। अब हमें यह देखना है कि हमारे परिवार के लोगों को इस से बचाना है। इसके लिए कई जरूरी सावधानियां बरतनी पड़ेगी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.