GLIBS

मानसून में खान-पान का रखें विशेष ध्यान, क्या खाएं और क्या न खाएं

राहुल चौबे  | 10 Jul , 2020 09:56 AM
मानसून में खान-पान का रखें विशेष ध्यान, क्या खाएं और क्या न खाएं

रायपुर। वैश्विक महामारी कोरोना से पूरा देश जूझ रहा है। वहीं मानसून के साथ मौसमी बीमारियों को आमंत्रण मिल चुका है। बता दें कि बारिश के मौसम में ज्यादातर बीमारियां हमारे खान-पान के कारण होती हैं। सामान्य फ्लू, बुखार, बैक्टीरियल, वायरल और फंगस से युक्त भोजन हमें बीमार करते हैं। इस मौसम में फैलने वाली बीमारियों से खुद को बचाने के लिए आप अपने खान-पान में थोड़ा बदलाव करें। बारिश के मौसम में खुद को फिट रखना है या परिवार के लोगों की सेहत का ध्यान रखना है तो भोजन में दाल, सब्जियां, कम वसा वाली चीजें ज्यादा शामिल करें। प्रोटीन के अलावा बीटा कैरोटीन, बी काम्प्लेक्स विटामिन, विटामिन सी, ई, सेलेनियम, जिंक, फॉलिक एसिड, आयरन, कापर, मैग्नीशियम, प्रीबायोटिक और प्रोबायोटिक आहार भी शरीर के लिए अच्छे होते हैं। इस दौरान अपने खान-पान में इन सावधानियों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। 

गर्मागर्म सूप और मसाले वाली चाय का करे सेवन : 
बारिश के बाद शरीर को ठंडक से बचाने के लिए अदरक की लच्छों के साथ सूप का आनंद ले सकते हैं। यह ठंड से ही नहीं फ्लू से भी आपको बचाता है। साथ ही शरीर को थकान और टूटन से बचाने में मदद करता है। उन लोगों के लिए यह अच्छा आहार है जो बरसात के दिनों में मेहनत नहीं कर पाते हैं। गले के संक्रमण में एक कटोरी सूप अच्छा आराम पहुंचाता है। साथ ही आपका पेट भी भर जाता है।

एक कप गर्म कड़क चाय या मसाला चाय का कोई जवाब नहीं : 
बरसात के दिनों में यह उपयुक्त पेय है। वही लॉन्ग और दालचीनी वाली मसाला चाय पीने से गले के संक्रमण और जुकाम से बचा जा सकता है। बारिश के दौरान प्याज और अदरक का सेवन ज्यादा करना चाहिए भोजन में रेशेदार फलों को शामिल करना फायदेमंद हो सकता है। नींबू में विटामिन सी मिलता है। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। वहीं पुदीना पाचन तंत्र को मजबूत करता है। इसलिए इसे खाने में शामिल करना चाहिए। इसे चटनी और सलाद में प्रयोग करना चाहिए। बारिश के मौसम में पीने के पानी का खास ध्यान रखना चाहिए। हरी सब्जियों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें फंगस और बैक्टीरिया से ज्यादा पनपते हैं।

घर में बने पकौड़े ही खाए :
बारिश के दौरान हर कोई पकौड़े खाना पसंद करता है। हल्की फुहारों के साथ एक कप गर्म चाय और एक प्लेट पकोड़े का अलग ही आनंद हैं। प्याज पकोड़ा, पालक पकोड़ा, पनीर पकोड़ा, हरी मिर्च का पकोड़ा आदि बनाए जा सकते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि बारिश के दौरान बाहर के पकोड़े ना खाकर घर में बने पकोड़े खाए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.