GLIBS

बालों को घना, सुंदर और स्वस्थ बनाने में फायदेमंद हैं कपूर, ऐसे करें इस्तेमाल...

पूर्णिमा मंडल  | 15 Mar , 2020 04:19 PM
बालों को घना, सुंदर और स्वस्थ बनाने में फायदेमंद हैं कपूर, ऐसे करें इस्तेमाल...

नई दिल्ली। कपूर का उपयोग अक्सर लोग पूजा करने के लिए करते हैं। मगर पूजा के साथ यह और भी कई चीजों के इस्तेमाल में काम आता है। इसका बालों पर लगाने से बालों से संबंधित कई समस्याओं से राहत मिलती है। कपूर में एंटी-फंगल, एंटी-इंफ्लामेट्री, एंटी-बैक्टीरियल गुण होने से बालों को घना,सुंदर और स्वस्थ बनाने में फायदेमंद है। इसमें किसी भी तरह का कोई केमिकल न होने से इसे यूज करने से कोई साइड इफेक्ट होने का खतरा नहीं होता है।

तो चलिए जानते है कपूर हमारे बालों के लिए कैसे बेस्ट है लेकिन उससे पहले जानते है इसे इस्तेमाल करने का तरीका...

 
कैसे करें इस्तेमाल
सबसे पहले 2-3 कपूर को पीस कर उसका पाउडर बना लें। उसके बाद अपने मनपसंद तेल को हल्का गर्म कर उसमें कपूर को मिक्स करें। तैयार मिक्सचर को अपने बालों पर हल्के हाथों से लगाएं। 5-10 मिनट तक मसाज करें। अपने बालों पर तेल को लगभग 1 घंटे या पूरी रात लगा रहने दें। सुबह बालों को माइल्ड शैंपू से धो लें।


डैंड्रफ से दिलाएं छुटकारा
बढ़ते प्रदूषण और बालों की अच्छे से केयर न करने से सबसे ज्यादा डैंड्रफ की परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐेसे में इससे छुटकारा पाने के लिए कपूर का इस्तेमाल करना बेस्ट ऑप्शन है। इसमें एंटी-फंगल, एंटी-इंफ्लामेटरी गुण पाएं जाते है। ऐसे में इसे बालों पर लगाने सक रूसी की परेशानी से राहत मिलती है।

बालों से जूं की समस्या से दिलाएं राहत
अक्सर बच्चों में कई दिनों तक सिर न धोने के कारण जुएं पड़ जाती है। ऐसे में कपूर को पिघलाकर उसमें नारियल का तेल मिक्स कर कुछ दिन लगाने से बालों में जूंए दूर होने में मदद मिलती है।


बालों का झड़ना रोके
कपूर को किसी भी तेल में मिलाकर लगाने से बालों का झड़ना बंद होता है। इसे लगाने समय हल्के हाथों से मसाज करनी चाहिए। ऐसे में हफ्ते में 2 बार या बाल धोने से पहले इसका इस्तेमाल करने से बाल घने, सुंदर, लंबा और बाउंसी होते हैं।

सिल्की व शाइनी
कपूर बालों में नेचुरली शाइन जगाने का काम करता है। कपूर को पीस कर उसमें जैतून का तेल मिलाकर लगाने से बाल सिल्की और सॉफ्ट होते हैं।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.