GLIBS

महावीर चौरड़िया खुदकुशी मामले में तीन बड़े उद्योगपतियों के खिलाफ अपराध दर्ज

महावीर चौरड़िया खुदकुशी मामले में तीन बड़े उद्योगपतियों के खिलाफ अपराध दर्ज

राजनांदगांव। शहर के कामठी लाइन निवासी महावीर चौरड़िया की खुदकुशी मामले में शहर कोतवाली पुलिस ने तीन बड़े उद्योगपतियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में धारा 306 और 34 के तहत अपराध दर्ज किया है। जिनके खिलाफ जुर्म दर्ज हुआ है। उसमें धनलक्ष्मी पेपर मिल के मालिक विनोद लोहिया, उसका भाई अशोक लोहिया और छत्तीसगढ़ के नामी उद्योग पति दामोदर मुंदड़ा के पुत्र कमल मूंदड़ा शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि शहर के कामठी लाइन में रहने वाले ब्रोकर महावीर चौरड़िया ने शनिवार की रात ट्रेन से कटकर खुदकुशी कर ली थी। खुदकुशी के ठीक पहले महावीर ने रेल की पटरी के पास ही खड़े होकर एक आडियो मैसेज रिकार्ड किया था और उसे सोशल मीडिया में वायरल किया था। इस आडियो मैसेज में महावीर ने नोटबंदी और जीएसटी के चलते धंधे में रुपए के कम आने के चलते परेशान होने और शहर के तीन व्यापारियों द्वारा उसे सबसे ज्यादा प्रताड़ित करने का जिक्र करते हुए अपने परिवार को बचाने का मार्मिक जिक्र किया था। शनिवार रात की घटना के बाद रविवार को सुबह महावीर के शव का पीएम कराकर पुलिस ने उसे परिजनों को सौंपा था। मामले की गूंज पूरे प्रदेश और देश मे होने के बाद शहर कोतवाली पुलिस ने एक- एक कर मृतक के परिजनों के बयान दर्ज किए और प्रारंभिक साक्ष्य एकत्र किए। परिजनों के बयान वही सब आया, जो महावीर ने अपने आडियो मैसेज और सुसाइडल नोट में लिखा था। आखिरकार मंगलवार को पुलिस ने धनलक्ष्मी पेपर मिल के मालिक विनोद लोहिया, उसके भाई अशोक लोहिया और कमल साल्वेंट के दामोदर मुंदडा के पौत्र कमल मूंदड़ा के खिलाफ धारा 306 और 34  के तहत आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला पंजीबद्ध किया। जिस धारा के तहत तीन को आरोपी बनाया गया है वह धारा  गैरजमानती है और उसमे अधिकतम दस वर्ष तक के कारावास और जुर्माने का प्रावधान बताया गया है। शहर कोतवाली के टीआई याकूब मेमन ने बताया कि पुलिस इन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए शीघ्र प्रयास करेगी। पुलिस की इस फौरी कार्रवाई की राजनांदगांव शहर के सभी वर्ग में अच्छी प्रशंशा हो रही है। शहर में यह पहला मामला है जब तीन नामी उद्योगपतियों की कारगुजारी जनता के सामने आई हैं।

Visitor No.