GLIBS

दस महीने से लापता युवक की पुलिस को मिली लाश, दोस्तों ने ही उतारा था मौत के घाट

दस महीने से लापता युवक की पुलिस को मिली लाश, दोस्तों ने ही उतारा था मौत के घाट

जगदलपुर। शहर के रेलवे कालोनी में रहने वाला 23 वर्षीय युवक अचानक जुलाई 2019 में गायब हो गया था। पुलिस ने काफी प्रयास किया लेकिन युवक का कुछ भी पता नहीं चला। लेकिन अचानक 10 माह बाद बस्तर एसपी ने मामले को जल्द से जल्द हल करने और आरोपियों की पतासाजी करने की बात कही जिसके बाद बोधघाट पुलिस हरकत में आई और युवक के हत्या के मामले को हल करने में सफलता हासिल की। बताया जा रहा है कि हत्या करने में उसके साथियों का ही हाथ था। सूत्रों के अनुसार 9 जुलाई 2019 को रेल्वे कालोनी में रहने वाला शेखर सेना अपनी मोटर साइकिल लेकर घर से दोस्तों के साथ पार्टी मनाने जाने की बात कहते हुए निकल गया था। उसके बाद उसकी मोटरसाइकिल टूटी फूटी हालत में मोतीतालाब पारा के पास एक होटल के पास सड़क किनारे से बरामद की गई थी।

शुरुआत में पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और परिजनों से लेकर उसके दोस्तों से पूछताछ की, लेकिन समय के साथ मामले पर अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। इसके बाद मामला ठंडे बस्ते में चला गया था। पुलिस ने परिजनों से लेकर दोस्तों तक का नार्को टेस्ट तक करने की बात कही थी, लेकिन लॉक डाउन के कारण मामला रुक गया था। बस्तर पुलिस अधीक्षक दीपक झा ने फिर से मामले की जांच शुरू कराई जिसके बाद वापस शेखर के 2 दोस्तों के साथ पूछताछ शुरू की। जहां 3 दिनों के बाद दोस्तों ने ही हत्या करने की बात कबूली। पुलिस एसडीआरएफ की मदद से शव को खोज निकालने में जुटी है। मामले के बारे में जानकारी देते हुए बोधघाट थाना प्रभारी राजेश मरई ने बताया कि शेखर सेना और उसके दोस्तों के बीच गाँजा पीने के दौरान किसी बात को लेकर विवाद हो गया और उसने चाकू मारकर उसकी हत्या कर दिया, जिसके बाद शव को बोरे में भरकर उसे बैलाबाजार के पास बने अग्रसेन भवन के पीछे तालाब में फेंक दिया गया था।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.