GLIBS

12 घंटे के भीतर धान चोरी करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

वैभव चौधरी  | 26 Nov , 2020 08:07 PM
12 घंटे के भीतर धान चोरी करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

धमतरी। थाना दुगली क्षेत्रांतर्गत सड़कपारा में हुए धान चोरी का 12 घंटे में खुलासा किया है।आरोपी से चोरी किए गए धान एवं घटना में प्रयुक्त औजार बरामद किया गया। प्रार्थी अनूपचंद्र वट्टी अपने खरीफ फसल की मिसाइ किये हुए धान को घर के में रखा हुआ था। रोज की भांति उसने 19 नवंबर की रात्रि करीब 11 बजे हॉल के दरवाजा में लगा ताला बंद देखकर सो गया। दूसरे दिन उसके हॉल के दरवाजों में लगा ताला गायब था तथा हॉल अंदर रखे हुए धान बोरा में से करीब 9-10 जूट बोरी सुतली रस्सी से सिलाया हुआ गायब था। किसी अज्ञात चोर ने उसके 9-10 बोरी धान को रात्रि में चोरी कर ले गया। 20 नवंबर को कौहाबाहरा में बड़ा साप्ताहिक बाजार लगता है जहां धान खरीदी करने वाले व्यापारी आते हैं, यह सोचकर अपने धान एवं अज्ञात चोर की दो-तीन दिन तक पता तलाश किया किंतु उसे कोई जानकारी नहीं मिला तब प्रार्थी की रिपोर्ट पर थाना दुगली में अज्ञात आरोपी के विरुद्ध अपराध क्रमांक 35/20 धारा 457, 380 भादवी के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

थाना प्रभारी दुगली दिनेश कुर्रे द्वारा अपने स्टाफ के साथ तत्काल अज्ञात आरोपी की पतासाजी के दौरान मुखबिर सूचना पर एक महत्वपूर्ण सुराग मिला,जिसके आधार पर संदेही गणेशराम उर्फ प्रेम शंकर पडोती की गतिविधियां संदिग्ध होने तथा दूर गांव में पार्टी मनाने की तैयारी कर रहा है। उक्त सूचना पर वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा निर्देश में घेराबंदी कर संदेही गणेश राम उर्फ प्रेम शंकर पडोती को पकड़कर कड़ाई से पूछताछ किया गया। पूछताछ में संदेही गणेश राम उर्फ प्रेम शंकर पडोती ने बताया कि प्रार्थी के घर के सामने उसका घर होने से उसे सभी गतिविधियां तथा धान के हॉल में रखा होना ज्ञात था और रात्रि में घटना को अंजाम देकर चुराई धान को 5600 रुपए में बिक्री करना, किंतु उसमें से कुछ पैसे खाने पीने में खर्च हो जाना तथा 2300 रुपए बचा होना बताया। आरोपी के द्वारा पेश करने पर जब्त किया गया तथा उसकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त लोहे की कुदाली व टूटा हुआ ताला बरामद किया गया है। मामले में उपलब्ध साक्ष्य, आरोपी के मेमोरेंडम कथन व अपराध स्वीकारोक्ति के आधार पर दोनों आरोपियों को  गिरफ्तार कर वैधानिक कार्यवाही पश्चात न्यायिक रिमांड के लिए न्यायालय के समक्ष पेश किया गया।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.