GLIBS

मैट्रिमोनियल साइट पर खुद को गूगल का एचआर मैनेजर बताकर कई युवतियों को बनाया ठगी का शिकार,आया गिरफ्त में

ग्लिब्स टीम  | 19 Jan , 2021 10:24 PM
मैट्रिमोनियल साइट पर खुद को गूगल का एचआर मैनेजर बताकर कई युवतियों को बनाया ठगी का शिकार,आया गिरफ्त में

अहमदाबाद। गुजरात के अहमदाबाद से ठगी का सनसनी खेज मामला सामने आया है। यहां पुलिस ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है,  जिस पर आरोप है कि उसने खुद को गूगल का एचआर मैनेजर बता कर कई लड़कियों का यौन शोषण किया। उसपर यह भी आरोप है कि उसने कई लोगों से पैसे भी ऐंठे। पुलिस ने अब इस शातिर को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने कई अहम खुलासे किये हैं। पुलिस ने बताया है कि गूगल का आईकार्ड,जो इस शख्स के पास से मिला है उसमें उसका नाम विहान शर्मा दर्ज है। पुलिस के मुताबिक इस शख्स ने मैट्रिमोनियल साइट पर कई अलग-अलग नाम से अपनी आईडी बना रखी है। इसी के जरिए वो लड़कियों के संपर्क में आता था। यह भी पता चला है कि आरोपी शख्स खुद को इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) अहमदाबाद का पास आउट बताता था। इसने फर्जी डिग्री भी बना रखा था। यह लोगों को बताता था कि उसकी सालाना सैलरी 40 लाख रुपया है। बताया जा रहा है कि इसने 50 से ज्यादा लड़कियों को अपनी ठगी का शिकार बनाया। इसमें से कई लड़कियों का इसने यौन शोषण भी किया। मैट्रिमोनियल साइट्स पर विहान शर्मा, प्रतीक शर्मा, आकाश शर्मा जैसे कई नामों से अपना आईडी बना रखा था। पुलिस ने इसके पास से 30 से ज्यादा सिम कार्ड, 4 फोन, फेक आईडी बरामद की हैं। इस शख्स ने अहमदाबाद, उज्जैन, ग्वालियर, गोवा समेत कई राज्यों में लड़कियों को अपना शिकार बनाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक युवती ने अपने साथ ठगी की शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने साइबर सेल को इसकी जांच सौंपी। जांच की गई तो पता चला कि ये शख्स तो अब तक पचास से ज्यादा लड़कियों के साथ ठगी और यौन शोषण कर चुका है। पुलिस का कहना है कि ये खुद की तनख्वाह सालाना चालीस लाख से ज्यादा बताता था। इसके के कारण इससे लड़कियां रिश्ते के लिए संपर्क करती थीं। पहले ये लड़की से मिलता-जुलता था और फिर लड़कियों को भरोसे में लेकर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाकर और पैसे ठग कर गायब हो जाता था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.