GLIBS

सरपंच के घर लूटपाट, लुटेरों ने दरवाजा नहीं खोलने पर तोड़ दिया दरवाजा, देशी कट्टा टिकाकर वारदात को दिया अंजाम

राहुल चौबे  | 11 Oct , 2020 10:14 AM
सरपंच के घर लूटपाट, लुटेरों ने दरवाजा नहीं खोलने पर तोड़ दिया दरवाजा, देशी कट्टा टिकाकर वारदात को दिया अंजाम

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के गीदम जनपद के फरसपाल थाना अंर्तगत ग्राम झोड़िया बाड़म पंचायत के महिला सरपंच के घर बीती रात अज्ञात लूटेरों ने धावा बोलकर सरपंच के पति को बंधक बनाकर घर से बाहर करीब 100 मीटर की दूरी पर ले जाकर मिक्सर मशीन से बांधकर घर में जमकर लूटपाट किया है। घटना को अंजाम देने के बाद सभी लूटेरे फरार हो गए। सरपंच के घर लूटपाट की घटना के बारे में ग्राम झोड़िया बाड़म की सरपंच मति नमिता पोडियाम ने बताया कि बीती रात करीब 12:30 बजे हम सब सोए हुए थे, तभी किसी अज्ञात ने दरवाजा खोलने को कहा, परिचय पूछने पर नहीं बताया दरवाजा नहीं खोलने पर दरवाजा को तोड़ने की कोशिश करने लगे। दरवाजे की कुंडी टूटते ही दो अज्ञात व्यक्ति घर के अंदर दाखिल हो गए और मेरे पति लक्ष्मीनाथ को पकड़कर बाहर ले गए। कुछ दूरी पर ले जाकर निर्माणाधीन सीसी सड़क के पासखड़ी मिक्सर मशीन से बांध दिया और दोनों लूटेरे घर के अंदर घुसकर मेरे साथ धक्का मुक्की एवं मारपीट कर गोदरेज की चाबी मांगने लगे। चाबी नहीं देने पर रॉड से आलमारी को तोड़ दिया और आलमारी के अंदर रखे करीब 1 लाख 10 हजार रुपए नकद व लाखों का सोना चांदी लूटकर फरार हो गए। 

सरपंच के पति लक्ष्मीनाथ ने बताया कि सबसे पहले लूटेरे घर में घुसकर उनसे उनका मोबाइल छीन लिए जिसके बाद देशी कट्टा टिकाकर उन्हें बाहर निकलने को कहा। बाहर निकालकर वे पास में ही बन रहे सीसी सड़क के काम में लगे मिक्सर मशीन के पास ले जाकर उन्हें टावेल से बांधकर मेरे घर की ओर चले गए। लक्ष्मीनाथ ने बताया कि वे बड़ी मुकिल से अपने आपको बंधन से छुड़ा पाए और चिल्लाते हुए घर की ओर भागे तब तक लूटेरे लूटपाट कर भाग चुके थे। आवाज सुनकर गांव वाले भी बाहर निकलकर आए। रात में ही फरसपाल कोतवाली में फोन कर पूरी घटना की जानकारी दे दी गई और उन्हें आने के लिए कहा गया लेकिन रात में कोई भी पुलिसकर्मी नहीं आया। सुबह 6 बजे पुलिस पहुंची और पूरे मामले की पड़ताल की। घटना के बाद  पूरा परिवार दहशत में है। उन्हें समझ नहीं आ रहा कि यह घटना नक्सलियों द्वारा अंजाम दिया गया है या फिर किसी अन्य के द्वारा लूटपाट की घटना की गई है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.