GLIBS

झुठी शान बचाने कलयुगी पिता ने की थी 19 वर्षीय पुत्री की हत्या, 14 दिन बाद हुआ मामले का खुलासा

झुठी शान बचाने कलयुगी पिता ने की थी 19 वर्षीय पुत्री की हत्या, 14 दिन बाद हुआ मामले का खुलासा

महासमुन्द। बेटी के चरित्र पर संदेह कर 19 वर्षीय पुत्री की पत्थर से सर कुचलकर हत्या करने वाले हत्यारे कलयुगी पिता को सिटी कोतवाली पुलिस ने 14 दिनों के बाद गिरफ्तार कर लिया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजीव शर्मा ने सिटी कोतवाली के सभागार में जानकारी देते हुए बताया कि सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम कनेकेरा के नाले में 1 जनवरी को एक 19 वर्षीय युवती सुलोचना दीवान की लाश संदिग्ध हालात में मिली थी। पुलिस को मामले में पहले से ही हत्या का संदेह था, जो प्रारंभिक पोस्टमार्डम रिपोर्ट के बाद पुख्ता हो गया कि युवती को किसी ने भारी वस्तु से सर पर वार कर हत्या की है। पुलिस ने मामले में 302 का मामले दर्ज कर संदिग्धों से पूछताछ कर रही थी।

गौरतलब है कि 1 जनवरी को सिटी कोतवाली प्रभारी राकेश खुटेश्वर को जानकारी मिली की कनेकेरा के पास एक अज्ञात युवती की लाश खुन से सनी हुई पड़ी है। पुलिस तत्काल घटना स्थल पहुंच कर लाश मृतिका के बारे में पूछताछ की तो मृतिका की पहचान सुलोचना दीवान 19 वर्ष पिता संतोष दीवान ग्राम कनेकेरा निवासी के रूप में की गई। सिटी कोतवाली पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल रायपुर से एक्सपर्ट और डॉग स्क्वाड को घटना स्थल बुलाया था। पुलिस के एक्सपर्ट डॉग को जब घटना स्थल से छोड़ा गया तो वह सीधे युवती के घर जो घटना स्थल से 200 मीटर दूर है जा घुसी थी। पुलिस को प्रारंभ से ही युवती के पिता संतोष दीवान पर संदेह होने लगा। घटना के बाद युवती की लाश को देखने के लिए पूरा गांव पहुंचा था लेकिन आरोपी पिता घटना स्थल नहीं गया। पुलिस ने घटना स्थल ना पहुंचने की वजह पूछी तो उसने खून ना देख पाने का बहाना बनाया। पुलिस घटना दिनांक के बाद से लगातार आरोपी कलयुगी पिता से पूछताछ करता रहा आखिर कार वह टूट गया और अपनी बेटी की हत्या करना पुलिस के सामने कबूल कर लिया।

पुलिस को हत्यारे पिता ने हत्या की पीछे की जो वजह बताई वह शर्मसार करने वाला था। हत्यारे संतोष दीवान ने पुलिस को हत्या की वजह बताया कि कुछ वर्ष पहले उसकी छोटी बहन अंतरजातीय विवाह कर ली थी जिसकी वजह से वह समाज में किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं रहा वह इस तरह से सोचता था। हत्योर पिता ने सुचोलना को भी इसी तरह का व्यवहार करते पाया था, मृतिका सुलोचना भी कई लडक़ो से मोबाइल पर बातचीत करती थी जिसकी वजह से पिता उसके संदेह पर शंक करता था। घटना दिनांक 31 दिसम्बर 2019 को सुलोचना दोपहर से कही गई थी जो देर रात घर लौटी थी, आक्रोशित पिता ने जब मृतिका से घर देर से पहुंचने की वजह पूछा तो वह उसे संतोषप्रद जवाब नहीं दी। इस बात से संतोष दीवान अपने 19 वर्षीय बेटी सुलोचना दीवान से नाराज होकर उसे जान से मारने की बात कहने लगा। पिता को आक्रोशित देख सुलोचना रात्रि में ही घर से भागने लगी जिसका पीछा हत्यारा पिता करने लगा और घर से महज 200 मीटर दूर कनेकेरा नाला के पास अपनी बेटी को पकड़ लिया और वहीं पत्थर से सर में वार कर अपनी 19 वर्षीय बेटी की हत्या कर दी। पुलिस मामले में अभी और जांच कर रही है। बहरहाल पुलिस आरोपी पिता को भादवि की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है। इस हत्याकांड को सुलझा ने में पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ल के निर्देशन और एसडीओपी नारद सुर्यवंशी के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी राकेश खुटेश्वर, प्रशिक्षु एसपी आंजनेय वाष्र्णेय, उप निरीक्षक विनोद शर्मा, डामनङ्क्षसग, ललित चन्द्राकर, चुड़ामणि सेठ, राहुल टंडन, सीमा धु्रव की मुख्य भूमिका रही।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.