GLIBS

उधारी की रकम पटाने के लिए सास-ससुर ने की बहू की हत्या

वैभव चौधरी  | 29 Jun , 2020 06:50 PM
उधारी की रकम पटाने के लिए सास-ससुर ने की बहू की हत्या

धमतरी। ग्राम सिलघट में हुए नवविवाहिता जया निषाद की हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने किया है। मृतिका की हत्या सास-ससुर ने फुल पैंट से गला घोटकर की थी। 25 जून को थाना भखारा को सूचना मिली की ग्राम सिलघट में नवविवाहिता जया निषाद पति लीलेश्वर निषाद का शव उसके कमरे में पड़ा है, उक्त सूचना पर थाना भखारा पुलिस तत्काल मौके पर पहुंचकर घटनास्थल को सुरक्षित करते हुए संदिग्ध हालत में कमरे में मिले मृतिका के शव का बारीकी से निरीक्षण करने पर प्रथम दृष्टया जया निषाद की मृत्यु संदेहास्पद होने से मर्ग पंजीबद्ध कर शव पंचनामा कार्रवाई पश्चात उसके शव को पीएम के लिए भेजा गया। शार्ट पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर द्वारा मृतिका को गर्भवती होने व दम घुटने से उसकी मृत्यु की पुष्टि करने पर थाना भखारा में अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धारा 302,201 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक धमतरी बीपी राजभानु, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे एवं अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना करते हुए थाना प्रभारी भखारा को उपलब्ध भौतिक व परिस्थिति जन्य साक्ष्यों को एकत्रित करते हुए अज्ञात आरोपी की पतासाजी कर वैधानिक कार्यवाही के लिए निर्देशित किया गया। प्रकरण की विवेचना क्रम मैं मृतिका के गले में उपस्थित निशान, गवाहों के कथन, साक्ष्य संकलन के आधार पर मृतिका की सास व ससुर पर संदेह होने से उनकी गतिविधियों पर नजर रखते हुए अज्ञात आरोपी की पतासाजी की जा रही थी। इसी दौरान सूचना मिली कि मृतिका के ससुर रामचंद्र निषाद ने 28-29 जून की दरम्यानी रात्रि में फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया। जिस पर संदेह और गहरा होने से मृतिका की सास अमृत बाई निषाद को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ करने पर वह टूट गई और बताया कि उसके पति रामचंद्र निषाद को आभास हो गया था कि पुलिस उसे पकड़ लेगी और गिरफ्तारी के डर व आत्मग्लानि से ही उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की होगी। आरोपिया अमृतबाई निषाद ने यह भी बताया कि उसके बेटे लिलेश्वर का विवाह 1 वर्ष पूर्व मृतिका जया निषाद से हुआ था, विवाह के समय समाज व आसपास के लोगों से उधार में रुपए लिए थे,जिसे चुकाने के लिए अपनी बहू जया निषाद से उसके सोने-चांदी के गहने मांगने पर वह इंकार कर दी,जिससे आपसी विवाद भी हुआ था। इसी बीच उसका पति रामचंद्र निषाद ने 5000 जया के मायके से लाकर उधार पटाया किंतु और उधारी होने पर पुनः 24 जून को जया से उसके गहने-जेवर या अन्य सामान विक्रय कर उधार पटाने के लिए मांगने पर नहीं दी और विवाद करते हुए डिलीवरी के लिए अपने मायके जाने की जिद करने लगी, जिस पर रामचंद्र निषाद ने उसे मायके जाने से मना किया तो इसी बात पर पुनः विवाद होने पर आक्रोशित होकर दोनों मिलकर बहू जया के गला को फुल पैंट से घोट कर हत्या कर दी, उसके बाद अलमारी में रखे सोने का डोला माला, चांदी की करधन व बिछिया को निकाल कर छुपाकर रखना बताया। इसे जब्त कर घटना में प्रयुक्त फुल पैंट को बरामद किया गया। अपराध की स्वीकारोक्ति, मेमोरेंडम कथन एवं उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर आरोपिया अमृत बाई निषाद पति रामचंद्र निषाद उम्र 46 वर्ष साकिन सिलघट थाना भखारा जिला धमतरी को विधिवत गिरफ्तार किया गया, जिसे न्यायालय के समक्ष पेश कर ज्युडिशियल रिमांड प्राप्त की गई है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.