GLIBS

हैदराबाद कांड के चारोें आरोपियों को पुलिस ने उतारा मौत के घाट, जाने कैसे दिया एनकाउंटर को अंजाम

ग्लिब्स टीम  | 06 Dec , 2019 09:43 AM
हैदराबाद कांड के चारोें आरोपियों को पुलिस ने उतारा मौत के घाट, जाने कैसे दिया एनकाउंटर को अंजाम

हैदराबाद। पशु चिकित्सक के साथ हैवानियत करने वाले चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। तेलंगाना पुलिस के अनुसार आरोपियों को राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए ले जाया गया था। इस दौरान आरोपियों ने पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस ने उनपर गोलियां चला दीं। इस मुठभेड़ में चारों आरोपियों की मौके पर ही मौत हो गई। बता दें कि चारों आरोपियों मोहम्मद आरिफ, शिवा, नवीन, केशवुलू ने हैदराबाद के शादनगर में पशु चिकित्सक की मदद के बहाने पहले उससे सामूहिक दुष्कर्म किया और फिर उसकी हत्या करके शव को आग के हवाले कर दिया। पुलिस को अगले दिन पीड़िता की अधजली लाश फ्लाईओवर के नीचे मिली थी।

इन सभी आरोपियों को पुलिस रिमांड में रखा गया था। पुलिस चारों आरोपियों को उसी फ्लाईओवर के नीचे ले गई थी जहां उन्होंने पीड़िता को आग के हवाले किया था। यहां पर क्राइम सीन रिक्रिएट किया जा रहा था। इसी दौरान धुंध का फायदा उठाते हुए उन्होंने भागने की कोशिश की। इन्हें रोकने के लिए पुलिस ने गोलियां चलाईं जिसमें उनकी मौत हो गई। आरोपियों के पुलिस मुठभेड़ में ढेर होने की पुष्टि पुलिस आयुक्त ने की है।

इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। सड़क से लेकर संसद तक आरोपियों को जल्द से जल्द सजा देने की मांग की जा रही थी। आरोपियों को फांसी पर चढ़ाने की मांग की जा रही थी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में कहा था कि सरकार कड़े कानून बनाने के लिए तैयार है।

इस तरह आरोपियों ने रची साजिश
आरोपी जब थोंडुपली ओआरआर टोल प्लाजा पर शराब पी रहे थे तब उन्होंने महिला डॉक्टर को वहां स्कूटर खड़ा करते देखा। तभी इन्होंने खौफनाक साजिश रच डाली। आरोपियों ने महिला डॉक्टर के मुंह में जबरन शराब डाली। यौन हमले के बाद पीड़िता होश खो बैठी। जब होश में आई तो अली ने उसे मार डाला। हत्या करने के बाद डॉक्टर की लाश को एक कपड़े में लपेटा और ट्रक में रख लिया।

दो लोग पीड़िता के स्कूटर पर आगे चल रहे थे और ट्रक पीछे। चट्टनपल्ली में आशियाना होटल के पास फेंक दिया। यहां इन्होंने शव पर पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी। बाद में दोबारा जला हुआ शव देखने यहां लौटे। इस दौरान इन्होंने पीड़िता के दो सिम कार्ड भी नष्ट कर दिए। 28 नवंबर को इन्होंने पीड़िता का स्कूटर कोथुर में खड़ा किया और सुबह पांच बजे ट्रक को आरामगढ़ ले गए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.