GLIBS

टिकट दलालों के ठिकानों पर कार्रवाई जारी,1 लाख से अधिक के टिकट बरामद

रविशंकर शर्मा  | 29 Nov , 2019 04:31 PM
टिकट दलालों के ठिकानों पर कार्रवाई जारी,1 लाख से अधिक के टिकट बरामद

रायपुर। आरपीएफ की डिटेक्टिव विंग इन दिनों अनाधिकृत रूप से रेलवे आरक्षित टिकट दलालों के विरुद्ध कार्यवाही कर रही है। मुखबिर की सूचना पर दुर्ग शहर में गुरुवार को डिटेक्टिव विंग भिलाई की टीम ने अवैध ई टिकट दलाल के ठिकाने पर  दबिश दी। मौके से 103286.80 रुपए के 66 रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए। आरपीएफ के अनुसार डिटेक्टिव विंग भिलाई निरीक्षक निशा भोईर, सहा उप निरीक्षक नरेंद्र ,प्रधान आरक्षक  यू के मिश्रा की टीम ने के ऑनलाइन दुकान में दबिश दी। सागर महोबिया (27) निवासी शंकर नगर ,थाना मोहन नगर जिला दुर्ग को अवैध रूप से आईआरसीटीसी के पर्सनल आईडी का प्रयोग कर आरक्षित ई टिकट बनाने के आरोप में पकड़ा गया। आरोपी के कब्जे से 12 पर्सनल यूजर आईडी से बने  कुल  66 नग रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए, जिसकी कुल कीमत 103286.80 रुपए है। साथ ही 1 कंप्यूटर सेट, नगद 250 रुपए के साथ  गिरफ्तार कर आरोपी को उचित कानूनी कार्यवाही के लिए रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट  दुर्ग को सुपुर्द किया गया। आरोपी के खिलाफ धारा 143 रेलवे एक्ट  के तहत जुर्म पंजीबद्ध किया गया है।

बता दें कि रेलवे टिकट दलालों के ठिकानों पर रेलवे पुलिस की दबिश से हड़कंप मचा हुआ है। गत दिवस टीम ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 19 नग रेलवे-ई-टिकट कीमती 40,890 रुपए  के सहित पकड़ कर रेलवे सुरक्षा बल भाटापारा को सुपुर्द किया। इसी तरह  डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल भिलाई ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को  39 नग रेलवे-ई-टिकट  कीमती 40086.52 रुपए सहित पकड़ कर धारा 143 रेलवे अधिनियम के तहत कार्यवाही की। डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल रायपुर ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 121 नग रेलवे-ई-टिकट  कुल  कीमत 378152.73 रुपए व 4 काउंटर टिकट कीमत 20040 रुपए  कुल कीमत 398,192.73 के टिकट सहित पकड़ा था। इसी तरह गोलबाजार क्षेत्र से टिकट दलाल के कब्जे से 43 नग रेलवे आरक्षित -ई -तत्काल/सामान्य टिकट मूल्य 111206 रुपए जब्त किया गया, जिसमें (2 नग लाइव टिकट कीमत 6337 रुपए ) एक नग कम्प्यूटर सेट कीमत 45000 रुपए को मौके पर जब्त किया गया था। 

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.