GLIBS

आईटी, टेक कंपनियों में लिवाली से चढ़ा शेयर बाजार

आईटी, टेक कंपनियों में लिवाली से चढ़ा शेयर बाजार

मुंबई। विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच आईटी और टेक समूहों की कंपनियों में जोरदार लिवाली से घरेलू शेयर बाजार करीब एक सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुँच गये। बीएसई का सेंसेक्स 168.62 अंक यानी 0.43 प्रतिशत चढ़कर 39,784.52 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 52.05 अंक यानी 0.44 प्रतिशत की बढ़त में 11,922.70 अंक पर पहुँच गया। यह दोनों सूचकांकों का 04 जून के बाद का उच्चतम स्तर है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी कंपनियों से बाजार को सबसे ज्यादा समर्थन मिला। सेंसेक्स में टीसीएस ने करीब ढाई प्रतिशत और इंफोसिस ने लगभग दो प्रतिशत का मुनाफा कमाया। एचसीएल टेक्नोलॉजीज के शेयर भी एक प्रतिशत से अधिक चढ़े।

सेंसेक्स 171.43 अंक की बढ़त में 39,787.33 अंक पर खुला और शुरूआती चंद मिनटों में ही साढ़े तीन सौ अंक से ज्यादा चढ़कर 39,979.48 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया। हालाँकि, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में आयी तेजी के कारण तेल एवं गैस क्षेत्र की कंपनियों में बिकवाली के दबाव में इसकी गिरावट कुछ कम हो गयी। बीच कारोबार में 39,619.97 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ कारोबार की समाप्ति पर यह गत दिवस की तुलना में 168.62 अंक ऊपर 39,784.52 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 20 कंपनियों में लिवाली और शेष 10 में बिकवाली का जोर रहा। निफ्टी 64.25 अंक की बढ़त में 11,934.90 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान इसका दिवस का उच्चतम स्तर 11,975.05 अंक और निचला स्तर 11,871.75 अंक दर्ज किया गया। अंतत: यह गत दिवस के मुकाबले 52.05 अंक चढ़कर 11,922.70 अंक पर रहा। निफ्टी की 50 में से 34 कंपनियों के शेयर हरे निशान में और अन्य 16 के लाल निशान में रहे।

मझौली कंपनियों में भी निवेशकों ने पैसा लगाया जबकि छोटी कंपनियों में उन्होंने बिकवाली की। बीएसई का मिडकैप 0.11 प्रतिशत चढ़कर 14,923.07 अंक पर पहुँच गया जबकि स्मॉलकैप 0.49 प्रतिशत की गिरावट में 14,584.59 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 2,783 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,623 के शेयर बढ़त में और 985 के गिरावट में रहे जबकि 175 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित बंद हुये।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.