GLIBS

देश में फिर नोटबंदी जैसे हालात, 100 रुपए  के नोट गायब  

ऋषभ दीवान  | 06 May , 2018
देश में फिर नोटबंदी जैसे हालात, 100 रुपए  के नोट गायब  

नई दिल्ली। देश में नोटबंदी के बाद से कैश की किल्लत आम बात हो गई है। पिछले एक महीने से कई राज्यों में कैश की किल्लत के बीच अब 100 रुपए के पुराने नोटों की वजह से संकट है।  आरबीआई के मुताबिक सिस्टम में पर्याप्त मात्रा में नोट हैं और नोटों की छपाई भी बढ़ाई गई। हालांकि 200 और 2000 रुपए के नोट को लेकर कहा गया कि इनकी छपाई फिलहाल रोक दी गई है। तरह 100 रुपए मूल्य के नोटों, खासकर जो एटीएम कैसेट में फिट हो सके ऐसे नोटो की सप्लाई भी कम है। जिसे अब एक नई समस्या आम जनता के सामने आने वाली है

आरबीआई ने लगाई बैंकों से गुहार

आरबीआई ने कहा कि 2015-16 में मांग के मुकाबले 44 करोड़ पीस कम सप्लाई की गई थी। 2017-18 के लिए डेटा अगस्त में उपलब्ध होगा। बैंकर्स ने अपनी इस समस्य को रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया के सामने रखा है और उन्होंने कहा है कि आरबीआई को इस समस्या पर तुरंत ध्यान देना चाहिए और एक्शन लेना चाहिए।

बैंक मैनेजर्स कहते हैं  इसकी  वजह से उनके बांचों में भी कम मूल्य के नोटों की भरमार है। आरबीआई डेटा के मुताबिक वित्त वर्ष 2016-17 में 50 रुपये से कम के 489.8 करोड़ नोटों को डिस्पोज किया गया बैंकर्स के मुताबिक नोटबंदी के बाद कैश की किल्लत को दूर करने के लिए 100 रुपए के मटमैले नोट का इस्तेमाल ज्यादा हुआ। उसके बाद से सिस्टम में यह नोट उपलब्ध हैं। अब बैंकों के लिए इन नोटों को संभालना भारी हो रहा हैं।

Visitor No.