GLIBS

फिलहाल ना करें पट्रोल की कीमतों के कम होने की उम्मीद, क्यों कि...पढ़ें पूरी खबर 

आशीष वर्मा  | 26 Apr , 2018 12:14 PM
फिलहाल ना करें पट्रोल की कीमतों के कम होने की उम्मीद, क्यों कि...पढ़ें पूरी खबर 

नई दिल्ली। अगर आप पेट्रोल की कीमतों के कम होने की उम्मीद कर रहे हैं तो शायद इस साल यह उम्मीद पूरी नहीं हो पाएगी। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी जारी है। इसी बीच विश्व बैंक की ओर से आई एक खबर भी निराश करने वाली है। दरअसल, विश्व बैंक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि इस साल पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 20 फीसदी बढ़ोत्तरी हो सकती है। गुरुवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए 74.63 रुपए चुकाने पड़ रहे हैं। वहीं, डीजल की बात करें तो यहां आपको  65.93 रुपए चुकाने पड़ रहे हैं। विश्व बैंक ने अप्रैल की कमोडिटी मार्केट आउटलुक रिपोर्ट में अनुमान लगाया है कि इस साल एनर्जी कमोडिटीज की कीमतों में 20 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो सकती है। एनर्जी कमोडिटी में कच्चा तेल, गैस और कोयला शामिल होता है। अगर ऐसा होता है, तो भारत में भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी होना तय है।

बहुत ज्यादा हो जाएगी कीमत 

20 फीसदी के इजाफे के बाद वर्तमान कीमत के हिसाब से पेट्रोल और डीजल की कीमत बेतहाशा बढ़ जाएगी। मुंबई में फिलहाल 82.48 रुपए में मिल रहे एक लीटर पेट्रोल के लिए 98.2 रुपए तक चुकाने पड़ सकते हैं। वहीं, दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 88 रुपए पर पहुंच सकती है। बता दें कि भारत करीब 82 फीसदी तेल आयात करता है। इसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में होने वाले छोटे से लेकर बड़े बदलाव का सीधा असर घरेलू स्तर पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर पड़ता है।

कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोत्तरी की आशंका

विश्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 2018 में कच्चे तेल की औसत कीमत 65 डॉलर रह सकती है। बता दें फिलहाल कच्चे तेल की कीमतें 74 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच गई है। विश्व बैंक के एक्टिंग चीफ इकोनॉमिस्ट शांतयनन देवराजन ने कहा है कि वैश्विक ग्रोथ और मांग बढ़ने की वजह से कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी होने की आशंका है। बता दें कि वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी कह चुके हैं कि फिलहाल सरकार एक्साइज ड्यूटी में कटौती करने का फैसला नहीं ले सकती है। उनका कहना है कि इससे अर्थव्यवस्था का गणित गड़बड़ा सकता है।